अजय देवगन के पैदा होने से पहले ही उनके पिता ने क्यों खा ली थी कसम? एक्टर बनाने के लिए किए थे तमाम जतन

वीरू पहले से ही फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हुए थे तो उन्हें पता था कि हीरो के लिए अच्छे लुक्स होना बहुत जरूरी है। उन्होंने अजय के लिए घर में जिम बनावा दिया था। अजय देवगन ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनके पिता ने उर्दू की क्लास तक भी लगवा दी थी।

पिता वीरू देवगन के साथ अजय देवगन (Photo- Indian Express)

बॉलीवुड एक्टर अजय देवगन ने कई हिट फिल्मों में काम किया है। अजय ने फिल्म ‘फूल और कांटे’ से डेब्यू किया था। बॉक्स ऑफिस पर फिल्म सुपरहिट भी हुई थी। खास बात है कि जब अजय देवगन ने इस फिल्म की शूटिंग शुरू की थी तो उनकी उम्र सिर्फ 18 साल थी। इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। अजय देवगन को हीरो बनाने में उनके पिता का अहम योगदान था।

दिवंगत वीरू देवगन से जब एक इंटरव्यू में पूछा गया कि क्या आप भी एक्टर बनना चाहते थे? वीरू देवगन ने इस पर कहा था, ‘हां, मैं भी एक्टर बनना चाहता था, लेकिन मुझे समझ आ गया था कि मेरा चेहरा एक्टर बनने लायक नहीं है। जब मैंने आइने में अपना चेहरा देखा तो दूसरे स्ट्रगलर्स के मुकाबले खुद को बहुत कमतर महसूस किया। इसलिए मैंने हार मान ली। लेकिन मैंने खाई कि मेरा पहला बेटा एक हीरो बनेगा।’

वीरू देवगन ने अपनी कसम के लिए मेहनत करनी भी समय से शुरू कर दी थी। अपने बेटे अजय को हीरो बनाने के लिए वाकई में उन्होंने बहुत मेहनत की। अजय को कम उम्र से ही फिल्ममेकिंग, एक्शन वगैरह से जोड़ा। कॉलेज गए तो उनके लिए डांस क्लासेज शुरू करवाईं।

हॉर्ड राइडिंग भी करते थे अजय देवगन: वीरू पहले से ही फिल्म इंडस्ट्री से जुड़े हुए थे तो उन्हें पता था कि हीरो के लिए अच्छे लुक्स होना बहुत जरूरी है। उन्होंने अजय देवगन के लिए घर में जिम बनावा दिया था। अजय देवगन ने एक इंटरव्यू में बताया था कि उनके पिता ने उर्दू की क्लास तक भी लगवा दी थी। हॉर्स राइडिंग वगैरह सब करवाई। फिर उन्हें अपनी फिल्मों की एक्शन टीम का हिस्सा बनाने लगे। उन्हें सिखाने लगे कि सेट का माहौल कैसा होता है। अजय फिल्ममेकिंग को लेकर इस वजह से बहुत सक्षम हो गए।

अक्टूबर 1990 में वीरू देवगन के घर संदेश कोहली आए और उन्होंने अपनी नई फिल्म का जिक्र उनसे किया। इसमें वीरू अजय देवगन को देखना चाहते थे। अजय जब कॉलेज से वापस लौटे तो उन्होंने अजय को बताया कि संदेश ‘फूल और कांटे’ बनाने जा रहे हैं और इसमें तुम्हें काम करना है। अजय इसके लिए तैयार नहीं थे क्योंकि तब उनकी उम्र सिर्फ 18 साल थी, लेकिन वीरू ये जानते थे कि इससे अच्छा ब्रेक अजय को नहीं मिल सकता।

वीरू देवगन ने अजय देवगन से इस फिल्म को साइन करने के लिए कहा और नवंबर में फिल्म की शूटिंग भी शुरू हो गई। इसमें अजय देवगन को बतौर लीड एक्टर साइन किया गया। ऐसे में अजय देवगन के लिए इस फिल्म को शूट करना काफी आसान हो गया था क्योंकि वह सेट और एक्टिंग के बारे में पहले से ही सब जानते थे।