अधूरी रह गई ओवैसी की जेल में बंद माफिया से मिलने की ख्वाहिश, पुलिस ने होटल में ही रोका; कांग्रेस ने यूं साधा निशाना

इस महीने की शुरुआत में, अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन एआईएमआईएम में शामिल हो गईं थीं। परवीन 7 सितंबर को लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एआईएमआईएम में शामिल हुईं, उस समय अतीक अहमद वहां मौजूद नहीं थे।

asaduddin owaisi, AIMIM AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी (Photo- Indian Express)

AIMIM अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी सोमवार सुबह साबरमती जेल पहुंचकर अतीक अहमद से मिलने वाले थे लेकिन खानपुर स्थित लेमन ट्री होटल से उन्हें पुलिस ने बाहर ही नहीं आने दिया। गुजरात पुलिस ने कहा की अगर अतीक से मिलने की उनके पास मंजूरी नहीं है तो वहां जाना ही क्यों चाहते हैं। इससे पहले अहमदाबाद सेंट्रल जेल ने जेल में बंद गैंगस्टर और पूर्व सांसद अतीक अहमद से मिलने की अनुमति देने से ओवैसी को इनकार कर दिया था। अगले साल होने वाले यूपी विधानसभा चुनावों पर नजरें गड़ाए हुए ओवैसी एक दिवसीय दौरे पर अहमदाबाद पहुंचे हैं। उन्होंने साबरमती सेंट्रल जेल में अतीक अहमद से मिलने की इजाजत मांगी थी।

अहमदाबाद केंद्रीय कारागार अधीक्षक रोहन आनंद ने कहा, “कृपया सूचित किया जाता है कि जेल के नियमों के अनुसार, केवल परिजनों या वकीलों के साथ मुलाकात की अनुमति है।” वहीं, कांग्रेस विधायक ग्यासुद्दीन शेख का आरोप है कि भाजपा के इशारे पर ही ओवैसी गुजरात में उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे हैं।

बता दें कि इस महीने की शुरुआत में, अतीक की पत्नी शाइस्ता परवीन एआईएमआईएम में शामिल हो गईं थीं। जिस पर भाजपा ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश में “जिन्ना की जेहादी मानसिकता” को पनपने नहीं देंगे।

परवीन 7 सितंबर को लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में एआईएमआईएम में शामिल हुईं, उस समय अतीक अहमद वहां मौजूद नहीं थे। ओवैसी ने समाजवादी पार्टी के पूर्व नेता अहमद और उनकी पत्नी को यह दावा करते हुए शामिल किया कि सपा और बहुजन समाज पार्टी ने अपनी पार्टियों में मुसलमानों को गुलाम के रूप में इस्तेमाल किया।

अतीक अहमद, जिनके खिलाफ कई आपराधिक मामले दर्ज हैं, को शामिल करने के अपने फैसले का बचाव करते हुए, ओवैसी ने यह भी कहा कि कई भाजपा नेता भी कई मामलों का सामना कर रहे हैं। पांच बार के विधायक और एक बार सांसद रह चुके अहमद के खिलाफ हत्या, अपहरण, अवैध खनन, रंगदारी, धमकी और धोखाधड़ी सहित 90 से अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं। उन्हें 2019 में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर उत्तर प्रदेश से अहमदाबाद स्थानांतरित कर दिया गया था।

पुलिस अब तक अतीक अहमद की 200 करोड़ रुपये से अधिक की संपत्ति पर कार्रवाई कर चुकी है। अतीक अहमद के खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत ये कार्रवाई की गई थी, अतीक और उसके आदमियों द्वारा अवैध रूप से बनाए गए भवनों को ध्वस्त करने के अलावा, इलाहाबाद जिला प्रशासन ने उनकी और उनके सहयोगियों की कई संपत्तियों को भी जब्त कर लिया है।