अपने नवजात को करें Aadhaar Card ‘गिफ्ट’, एक दिन के बच्चे का भी बन जाएगा

Aadhaar Card: नवजात के लिए किस तरह यह कार्ड बनेगा उसकी जानकारी साझा की है। यूआईडीएआई के मुताबिक जिस अस्पताल में बच्चे का जन्म हो वहां से बर्थ सर्टिफिकेट के साथ माता या पिता में से किसी एक का आधार कार्ड चाहिए होता है।

Aadhaar Card: आधार कार्ड बेहद ही महत्वपूर्ण सरकारी दस्तावेज में से एक माना जाता है। यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) द्वारा जारी होने वाले आधार कार्ड में एक यूजर की बॉयोमेट्रिक और डेमोग्राफिक जानकारियां दर्ज होती हैं। इसके अलावा आधार कार्ड धारक को एक यूनिक आइडेंटिटी नंबर दिया जाता है। एक दिन के बच्चे का भी आधार कार्ड बनवाया जा सकता है।

यूआईडीएआई ने नवजात के लिए किस तरह यह कार्ड बनेगा उसकी जानकारी साझा की है। यूआईडीएआई के मुताबिक जिस अस्पताल में बच्चे का जन्म हो वहां से बर्थ सर्टिफिकेट के साथ माता या पिता में से किसी एक का आधार कार्ड चाहिए होता है।

इसके बाद अभिभावक ऑनलाइन ही यूआईडीएआई की वेबसाइट पर आधार कार्ड सेंटर में जाने के लिए अपॉइंटमेंट बुक कर लें। तय समय पर सेंटर में जाकर अपने दस्तावेजों को जमा कर दें। इसके बाद यूआईडीएआई आपके दस्तावेजों को वेरिफाई करेगा और बच्चे को आधार कार्ड जारी कर दिया जाएगा।

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि नवजात के बॉयोमेट्रिक नहीं लिए जाते क्योंकि वह समय के साथ डेवपल होते हैं। ऐसे में बच्चे के पांच साल और फिर 15 साल के होने पर बॉयोमेट्रिक को अपडेट किया जाता है।

आधार की अहमियत का अंदाजा आप इसी से लगा सकते हैं कि स्कूल में बच्चे के एडमिशन से लेकर तमाम सरकारी योजनाओं के तहत मिलने वाले फायदों को पाने के लिए आधार की मांग की जाती है। ऐसे में तय समय रहते आधार कार्ड बनवा लेना फायदेमंद माना जाता है।