अब इस्लमिक देश भी नहीं मानते पाकिस्तान की बात, बोले संगीत रागी, पाक के पैनलिस्ट ने बता दी खुशफ़हमी

टीवी डिबेट में राजनीतिक विश्लेषक संगीत रागी ने कहा कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र के मंच का जितनी बार दुरुपयोग करे और कश्मीर के बारे में बात करे। लेकिन दुनिया का कोई भी देश यहां तक कि इस्लामिक देश भी अब पाकिस्तान की बातों से सहमत नहीं हैं।

शनिवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर राग अलापा जिसपर भारत ने भी जमकर पलटवार किया और कहा कि उन्होंने झूठ का सहारा लेते हुए इस बार भी यूएन के प्लेटफॉर्म का गलत इस्तेमाल किया है। (फोटो – एपी)

शनिवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया। इस दौरान इमरान खान ने एक बार फिर से भारत पर आरोप लगाते हुए कश्मीर वाला पुराना राग अलापा। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर भारत ने भी जमकर पलटवार किया और अपनी कड़ी प्रतिक्रिया जाहिर की। इसी मुद्दे पर टीवी डिबेट के दौरान जब राजनीतिक विश्लेषक संगीत रागी ने कहा कि अब इस्लामिक देश भी पाकिस्तान की बात नहीं मानते। तो डिबेट में मौजूद रहे पाकिस्तानी पैनलिस्ट ने भी प्रतिक्रिया देते हुए उनके बयानों को खुशफहमी बता दी।

दरअसल आजतक न्यूज चैनल पर आयोजित टीवी डिबेट के दौरान एंकर चित्रा त्रिपाठी ने राजनीतिक विश्लेषक संगीत रागी से सवाल पूछा कि बदली हुई परिस्थिति के बाद डर इस बात का और ज्यादा गहरा गया है कि पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद अब और बढ़ेगा। इसलिए संयुक्त राष्ट्र के मंच पर पाकिस्तान को एक्सपोज करना जरूरी हो गया था।

एंकर के सवाल के जवाब में राजनीतिक विश्लेषक संगीत रागी ने कहा कि पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र के मंच का जितनी बार दुरुपयोग करे और कश्मीर के बारे में बात करे। लेकिन दुनिया का कोई भी देश यहां तक  कि इस्लामिक देश भी अब पाकिस्तान की बातों से सहमत नहीं हैं। वो कहीं कहीं कभी कभार जिक्र कर देते हैं लेकिन वो इसके प्रति गंभीर नहीं हैं। इस दौरान संगीत रागी ने दुनिया भर में होने वाले आतंकवादी घटनाओं के तार भी पाकिस्तान से जोड़ दिए।

संगीत रागी के इन बयानों पर टीवी डिबेट में ही मौजूद रहे पाकिस्तान की सत्ताधारी पार्टी पीटीआई के प्रवक्ता अब्दुल समद याकूब ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि दरअसल आपको पाकिस्तान फोबिया हो गया है और मैं अपने पैनालिस्ट को एकदम बीच में नहीं रोकता हूं जब वो पाकिस्तान के बारे में बात कर रहे होते हैं। आगे याकूब ने कहा कि कल से आपलोग खुशफहमी का शिकार हैं कि अमेरिका में नरेंद्र मोदी को खूब सम्मान मिल रहा है, ये बिलकुल ठीक भी है।

गौरतलब है कि शनिवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा कि पाकिस्तान भारत के साथ शांति चाहता है। दक्षिण एशिया में स्थायी शांति जम्मू-कश्मीर विवाद के समाधान पर ही निर्भर करती है। साथ ही इमरान खान ने कहा कि पाकिस्तान के साथ संबंध अच्छा करने की जिम्मेदारी पूरी तरह से भारत पर निर्भर करती है। इमरान खान के इन बयानों पर भारत ने भी जमकर पलटवार किया। 

संयुक्त राष्ट्र महासभा में भारत की प्रथम सचिव स्नेहा दुबे ने इमरान खान के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए जमकर खरी खोटी सुनाई। स्नेहा दुबे ने कहा कि पाकिस्तान का इतिहास रहा है कि वो आतंकवादियों को खुला समर्थन देता आया है। पाकिस्तान ने झूठ का सहारा लेते हुए पहले की तरह ही इस बार भी यूएन के प्लेटफॉर्म का गलत इस्तेमाल किया है और भारत के खिलाफ गलत बयानबाजी की है। पाक में हो रही गतिविधियों से दुनिया का ध्यान हटाने के लिए पाकिस्तानी नेता इस तरह के मनगढ़ंत बयान दे रहे हैं। उनके देश में आतंकी खुले घूमते हैं, और आम नागरिक, खासकर वहां रह रहे अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों पर आए दिन अत्याचार होते हैं। लेकिन इससे अलग पाकिस्तान कश्मीर पर राग अलाप रहा है।