अब तक केवल 25% लोगों को ही कोरोना टीके की दो डोज, यूपी का रिकॉर्ड सबसे ख़राब

देश में कोरोना वैक्सीन की कमी की खबरों के बीच आंकड़े बता रहे हैं कि अब तक केवल 25 फीसदी आबादी को ही टीके की दोनों खुराक मिल पाई हैं। वहीं 69 प्रतिशत बालिग जनसंख्या को वैक्सीन का एक डोज मिला है। गुरुवार को सरकार ने यह जानकारी दी। सरकार की तरफ से कहा गया […]

तस्वीर मुंबई के एक वैक्सिनेशन सेंटर की है। फोटो- एक्सप्रेस @अमित चक्रवर्ती

देश में कोरोना वैक्सीन की कमी की खबरों के बीच आंकड़े बता रहे हैं कि अब तक केवल 25 फीसदी आबादी को ही टीके की दोनों खुराक मिल पाई हैं। वहीं 69 प्रतिशत बालिग जनसंख्या को वैक्सीन का एक डोज मिला है। गुरुवार को सरकार ने यह जानकारी दी। सरकार की तरफ से कहा गया कि जिन इलाकों में जनसंख्या ज्यादा है, वहां अब भी कोरोना फैलने का खतरा है। ऐसे में गैरजरूरी यात्राओं और त्योहारों को धूम-धाम से मनाने से बचने की जरूरत है।

सरकार ने बताया कि 64.1 फीसदी वैक्सीन की डोज ग्रामीण इलाकों के सेंटर पर भेजी गई हैं जबकि 35 फीसदी शहरी क्षेत्रों को मिली हैं। सरकारी आंकड़ों के मुताबिक उत्तर प्रदेश और बिहार उन राज्यों में शामिल हैं जिन्हें सबसे ज्यादा वैक्सीन उपलब्ध करवाई गई है, बावजूद इसके इन राज्यों में अभी 60 फीसदी आबादी को दोनों खुराक नहीं मिल पाई हैं। सात राज्य ऐसे हैं जिनमें जनसंख्या के हिसाब से वैक्सिनेशन की दर काफी कम है। इसमें उत्तर प्रदेश टॉप पर है।

उत्तर प्रदेश में केवल 13.8 फीसदी आबादी को ही कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगाई गई हैं। वहीं 58 फीसदी आबादी ऐसी है जिसे कम से कम एक डोज लगाई गई है। इस मामले में खराब प्रदर्शन करने वाले सात राज्य हैं। उत्तर प्रदेश और बिहार को छोड़कर झारखंड, तमिलनाडु, पंजाब, दिल्ली, गुजरात, उत्तराखंड, केरल और हिमाचल प्रदेश भी इस श्रेणी में शामिल है।