आपकी CNG कार कम माइलेज दे रही है तो अपनाएं ये जरूरी टिप्स, न करें ऐसी गलतियां

कई लोगों का कहना होता है कि उनकी सीएनजी कार पहले के मुकाबले कम माइलेज दे रही है। सीएनजी कार के कम माइलेज देने के पीछे कुछ मुख्य वजहें होती हैं।

सीएनजी पंप के बाहर गैस भरवाते ग्राहक। Express Phoro by Gajendra Yadav

भारतीय बाजार में सीएनजी कारों की काफी डिमांड है। वे शहरी इलाके जहां पर सीएनजी आसानी से उपलब्ध हैं वहां तो इस सेगमेंट की कारों की और ज्यादा डिमांड रहती है। कई लोग कंपनी फिटेड सीएनजी कार लेते हैं तो कई लोग कार खरीदने के बाद सीएनजी किट फिट करवाते हैं।

सीएनजी कार चलाने वाले कई लोगों को कम माइलेज की शिकायत रहती है। कई लोगों का कहना होता है कि उनकी सीएनजी कार पहले के मुकाबले कम माइलेज दे रही है। सीएनजी कार के कम माइलेज देने के पीछे कुछ मुख्य वजहें होती हैं। अगर आप इन वजहों को पहचान कर दूर करवा लेते हैं तो काफी हद तक पहले जैसी बढ़िया माइलेज हासिल कर सकते हैं।

कहीं आपकी CNG कार में गैस लीक तो नहीं हो रही? जांच करवा करवा लें नहीं तो हो सकता है भारी नुकसान!

सबसे पहली बड़ी वजह जो कम माइलेज के लिए मानी जाती है वह है लीकेज की समस्या। सिलिंडर से गैस लीक होना या फिर बोनट में लगे किसी पाइप में से गैस लीकेज। अगर आप लीकेज को चेक करवाकर बंद करवा देंगे तो माइलेज का बढ़ना तय है। इसके साथ ही आपको कार में लगी सीएनजी किट के वॉल्व की जांच जरूर करनी चाहिए। वॉल्व में किस तरह की कमी के चलते भी गैस लीक होने लगती है। ऐसे में माइलेज पर फर्क पड़ता है।

इसके साथ ही आपको सीएनजी की सर्विस तय समय पर करवा लेनी चाहिए। जिस तरह आप अपनी कार की समय पर सर्विस करवाते हैं उसी तरह सीएनजी के लिए निर्धारित टाइम पीरियड के पूरा होने के बाद सर्विस जरूर करवाएं।

हालांकि अगर आपकी कार में लीकेज की समस्या नहीं है और न ही वॉल्व खराब है। इसके साथ ही आप समय पर कार और सीएनजी किट की सर्विस भी करवाते हैं तो आपको अपनी ड्राइविंग के तरीके पर विचार करना होगा। माइलेज ड्राइविंग स्टाइल पर भी निर्भर करती है। मसलन क्लच और एक्सीलेरेट का सही इस्तेमाल, बेवजह रेड लाइट पर 30 सेकेंड से ज्यादा कार को ऑन रखने से भी माइलेज पर फर्क पड़ता है।