आपको बोलने का हक नहीं- बोले पैनलिस्ट; अर्णब ने कहा- हमारी सरकार बहुत संवेदनशील है

भारत में शुक्रवार को पिछले 24 घंटों में कोरोना के 4.14 लाख नए मामले दर्ज किए गए। देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 2.14 करोड़ से अधिक हो गयी है।

Patriotic, National Anthem

रिपब्लिक भारत पर डिबेट में बीजेपी के गौरव भाटिया कहने लगे कि केंद्र ने जब बंगाल में कोविड वैक्सीन भेजी थी तो टीएमसी नेता ने उसे क्यों रोका था ये आप लोग नहीं बताएंगे। ममता बनर्जी ने उन पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं की। पैनलिस्ट ने जवाब देते हुए कहा कि कोरोना के समय में पश्चिम बंगाल सरकार ने बहुत अच्छा काम किया है। बीजेपी शासित राज्यों को बंगाल से सबक लेना चाहिए। बीजेपी को बोलने का हक नहीं है। एंकर अर्नब गोस्वामी डिबेट में कहने लगे कि मोदी सरकार संवेदनशील है। लोगों की सुनती है।

बता दें कि भारत में शुक्रवार को पिछले 24 घंटों में कोरोना के 4.14 लाख नए मामले दर्ज किए गए। देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 2.14 करोड़ से अधिक हो गयी है। इनमें से 36 लाख से अधिक मामले वर्तमान में सक्रिय हैं, जबकि 1.76 करोड़ से अधिक लोग ठीक हुए हैं। 3,915 नई मौतों के साथ, कुल मौतों का आंकड़ा अब 2.34 लाख से अधिक है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोरोना की घातक दूसरी लहर का कहर जारी है। आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल वर्तमान कोविड की स्थिति पर एक उच्च स्तरीय बैठक करेंगे। डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन और अन्य अधिकारी भी बैठक में मौजूद रहेंगे।

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कर्नाटक हाईकोर्ट के आदेश पर हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया, जिसमें केंद्र सरकार को राज्य के लिए ऑक्सीजन के दैनिक कोटे को 965 मीट्रिक टन से बढ़ाकर 1200 मीट्रिक टन करने के लिए कहा गया था। शीर्ष अदालत ने हाईकोर्ट के आदेश के खिलाफ केंद्र की चुनौती को खारिज कर दिया।

दिल्ली हाईकोर्ट ने शुक्रवार को केंद्र और दिल्ली सरकार को निर्देश दिया कि वह 2020-21 के सत्र में बोर्ड परीक्षा के लिए उपस्थित होने वाले सभी कक्षा 10 और 12 के छात्रों का टीकाकरण करने का निर्देश दें। मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह की पीठ ने स्वास्थ्य और शिक्षा मंत्रालयों को नोटिस जारी किया और दिल्ली सरकार से याचिका पर अपना पक्ष रखने की मांग की।

हाईकोर्ट ने एक जनहित याचिका पर दिल्ली सरकार को एक नोटिस भी जारी किया, जिसमें दिल्ली के आश्रय घरों में बेघर लोगों को नाश्ते सहित एक दिन में तीन समय पौष्टिक भोजन उपलब्ध कराने के निर्देश दिए गए हैं। याचिका बेघरों के लिए आश्रय गृहों में टीका शिविर लगाने की भी मांग करती है।