आप और मोदी जी हिंदुत्व के बारे में कुछ नहीं जानते, ‘आइए चर्चा करें’; अर्णब के शो में BJP नेता को मिली चुनौती

ममता बनर्जी ने कुछ दिनों पहले हुबली में चुनावी रैली के दौरान नारा दिया था कि ‘हरे कृष्णा हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम।

bjp, republic bharat

रिपब्लिक भारत चैनल पर डिबेट शो के दौरान पैनलिस्ट ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता सुधांशु त्रिवेदी को हिंदुत्व पर चर्चा करने के लिए चैलेंज किया। दरअसल शो के दौरान भाजपा प्रवक्ता ने पैनलिस्ट से कहा कि आपको जय श्रीराम के नारे से परहेज है। इस पर पैनलिस्ट ने पौराणिक कथाओं का जिक्र करते हुए कहा कि जब हनुमान जी लक्ष्मण जी के लिए संजीवनी लाने गए थे तब पहाड़ उठाने के लिए उन्होंने जय श्रीराम कहा था। ऐसा उन्होंने पावर के लिए कहा था। आप इस चुनाव को युद्ध का मैदान मत बनाइए।

शो को दौरान एंकर अर्णब गोस्वामी ने कहा कि अमित शाह ने कहा है कि जय श्रीराम का नारा धार्मिक नहीं है, यह तुष्टिकरण के नारे के खिलाफ है। इसपर एक पैनलिस्ट लगातार अपनी बात रख रहे थे तब अर्णब ने कहा कि आप मुझे क्यों बार-बार बीच में टोक रहे हैं। इसके बाद पैनलिस्ट ने कहा कि ‘जो श्री राम का नारा लेकर चलते हैं तुष्टिकरण वहीं करते हैं। मैं आपको टोक नहीं रहा हूं, मैं आपके ऑफिस में कॉफी पी रहा हूं।

मैं इनको कॉफी पी कर सुनाना चाहता हूं कि अगर ये लोग जरा भी हिंदुत्वादी हैं, तो मैं इनको चैलेंज करता हूं, आईए वेद के बारे में मैं चर्चा करना चाहता हूं, ऋगवेद, सामवेद, यजुर्वेद इन सभी पर चर्चा करना चाहता हूं। पुराण, रामायण, महाभारत सब पर मैं चर्चा करना चाहता हूं। ये कैसे हिंदुत्ववादी हैं मैं चर्चा करना चाहता हूं इनसे। मोदी जी हैं आप हैं, मैं चैलेज करता हूं आप लोग हिंदुत्व के बारे में कुछ नहीं जानते। ना मां दुर्गा, ना मां सरस्वती, ना मां काली…’

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं। केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधते हुए गुरुवार को कहा था कि तुष्टिकरण के खिलाफ आक्रोश का नारा है जय श्रीराम।

उन्होंने कहा था कि जय श्रीराम के नाम पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। गृह मंत्री ने गुरुवार को एबीपी न्यूज शिखर सम्मेलन के दौरान बताया था कि जय श्रीराम का मुद्दा ममता बनर्जी की गलतियों के कारण बना है। उन्होंने कहा था कि वे वोटरों को हिन्दू-मुसलमान के लिहाज से नहीं देखते हैं।

इधर ममता बनर्जी ने कुछ दिनों पहले हुबली में चुनावी रैली के दौरान नारा दिया था कि ‘हरे कृष्णा हरे राम, विदा हो बीजेपी-वाम।’ ममता बनर्जी लगातार बीजेपी पर तुष्टिकरण की राजनीति करने का आरोप लगाती रही हैं।