इंडस्ट्री में ऐसा कोई नहीं जिसने राजेश खन्ना के साथ दुर्व्यवहार न किया हो; काका की आखिरी फिल्म के डायरेक्टर ने खोले थे राज़

राजेश खन्ना आखिरी दिनों में ‘आशीर्वाद’ में अकेले रहते थे। राजेश की आखिरी फिल्म ‘रियासत’ के डायरेक्टर ने कई राज़ खोले थे। उन्होंने काका के साथ दुर्व्यवहार की बात भी स्वीकार की थी।

Dimple Kapadia, Rajesh Khanna Dimple Kapadia divorce, राजेश खन्ना और डिंपल कपाड़िया (फोटो सोर्स- इंस्टाग्राम फैनपेज @kakalovers)

बॉलीवुड के पहले सुपरस्टार राजेश खन्ना आखिरी दिनों में ‘आशीर्वाद’ में अकेले रहते थे। यूं तो राजेश खन्ना ने कई हिट फिल्मों में काम किया था। लेकिन आखिरी समय में उन्हें काम मिलना भी मुश्किल हो गया था। ऐसे में राजेश खन्ना के लिए फिल्म ‘रियासत’ आखिरी उम्मीद थी। फिल्म 2014 में रिलीज हुई, लेकिन तब तक काका इस दुनिया को अलविदा कह चुके थे। इस फिल्म में रज़ा मुराद, आर्यन वैद जैसे कलाकार भी थे।

फिल्म के डायरेक्टर अशोक त्यागी ने राजेश खन्ना के निधन के बाद कई खुलासे किए थे। ‘एबीपी न्यूज़’ से बात करते हुए अशोक ने कहा था, ‘राजेश अपने आखिरी दिनों में बहुत अकेले पड़ गए थे। फिल्म इंडस्ट्री का ऐसा कोई एक्टर नहीं था जिसने राजेश खन्ना के साथ दुर्व्यवहार न किया हो। इनकम टैक्स ने राजेश खन्ना के ऊपर डेढ़ करोड़ रुपए का क्लेम डाल दिया था। हमारे देश की सरकार ने आशीर्वाद को भी अटैच कर लिया था। मतलब काका बेघर तक हो गए थे।’

अशोक त्यागी ने आगे बताया था, ‘राजेश खन्ना के ऊपर डेढ़ करोड़ का क्लेम तो डाला लेकिन ऐसा भी नहीं था कि वो दे नहीं सकते थे। भले ही उनके पास पैसे न भी रहे हों, लेकिन उनके दामाद और बेटियां इतने बड़े स्टार थे कि पैसे तो दे ही सकते थे। लेकिन वो आत्मसम्मान से जीने वाले एक्टर थे। मैंने खुद एक कंपनी को जाकर कहा था कि मैं राजेश खन्ना को लेकर फिल्म बनाना चाहता हूं, लेकिन कोई भी लेने को तैयार नहीं था। उनका कहना था कि आप किसी दूसरे बड़े स्टार को लेकर फिल्म क्यों नहीं बनाते हो।’

किराए के घर में रहते थे राजेश खन्ना: वरिष्ठ पत्रकार भावना सोमैया ने बताया था, ‘राजेश खन्ना ने लोखंडवाला में किराए पर एक बंगला लिया था। मैंने उन्हें कहा था कि बंगला तो अच्छा है तो उन्होंने कहा कि ठीक है, लेकिन मुझे इतने छोटे घर में रहने की आदत नहीं है। उन्हें बहुत घर छोटा लग रहा था। कुछ दिनों के लिए वह वरसोवा में भी रहे थे। एक सुपरस्टार जैसा उन्हें वहां बिल्कुल भी नहीं लगता था क्योंकि कई बार बड़े घर की आदत रहते-रहते लग ही जाती है।’