इजरायल के हवाई हमले में फिलस्तीनी पक्ष के सीनियर कमांडर की मौत

गाज़ा के अधिकारियों के मुताबिक अभी तक इस संघर्ष में संघर्ष करीब 201 लोगों की मौत हुई है। जिसमें 58 बच्चे और 34 औरतें शामिल हैं।

conflict, israel, palestine

जबर्दस्त हवाई हमले करते हुए इजरायल ने सोमवार को गाज़ा में फिलस्तीनी सीनियर कमांडर की जान ले ली। उधर, इस्लामी समूह इजरायली शहरों पर रॉकेट बरसाते रहे। इस बीच अंतर्राष्ट्रीय समुदाय शांति की अपील करता रहा। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने दोनों पक्षों से कहा है कि नागरिकों की जानें न जाएं। साथ ही उन्होंने कहा कि अमेरिका झगड़ा खत्म कराने के लिए परदे के पीछे भी करने में लगा है।

गाज़ा के अधिकारियों ने कहा है कि संघर्ष की शुरुआत से अब तक 201 लोगों की मौत हुई है। इनमें 58 बच्चे थे और 34 औरतें हैं। उधर, तेल अवीव में इज़रायली अधिकारियों ने अपने यहां मरने वालों की संख्या दस बताई। इनमें दो बच्चे शामिल हैं। एक इजरायली की मौत सोमवार को हुई और वह पिछले हफ्ते हुए अरबी-यहूदी दंगे में घायल हो गया था।

इजरायली हमले में सोमवार को फिलस्तीन के इस्लामिक जिहाद ग्रुप के कमांडर की हुसम अबू हरबीद मौत हो गई। माना जा रहा है कि इस मौत की प्रतिक्रिया में हमास और उनके साथ मिल कर इजरायल का मुकाबला करने वाले उग्रवादियों के हमले और तीखे हो जाएंगे। उधर, इजरायली फौज ने एक बयान जारी करके कहा है कि हरबीद इजरायली नागरिकों पर किए गए अनेक एंटी टैंक मिसाइल हमले में शामिल था। अपना तर्क देते हुए एक इजरायली कमांडर ने कहा कि  आखिर हम हमेशा हमेशा लड़ाई ही तो नहीं लड़ते रह सकते।

दूसरी ओर गाज़ा में बैठे उग्रवादी समूहों ने लड़ाई ख़त्म होने का कोई संकेत नहीं दिया है। इस्लामिक जिहाद समूह ने कहा कि हरबीद की मौत के बाद उन्होंने इजरायल के तटवर्ती शहब अशदोद पर कई रॉकेट दागे। इजरायल पुलिस ने स्वीकार किया है कि इन रॉकेटों से तीन व्यक्ति मामूली रूप से जख्मी हो गए हैं।

फिलस्तीनी सूत्रों ने मीडिया को बताया कि हरबीद के अलावा भी चार व्यक्तियों की मौत हुई है। बताया गया है कि तीन मौतें गाज़ा सिटी में सोमवार को हुए हवाई हमले में हुईं। एक की जान जबाल्या में गई। उस पर भी हवाई हमला हुआ था। इजरायली सैन्य सूत्रों का कहना है कि बीती रात उनकी तरफ 60 रॉकेट गिरे। हालांकि यह संख्या घटी है, पहले के दो दिनों में करीब 120 और 200 रॉकेट मारे गए थे।

गाज़ा में रहने वाली पचास साल की पांच बच्चों की मां उम्म नईम ने मीडिया से बातचीत में कहा कि बीती रात बमबारी रुकने के बावजूद बच्चे सो नहीं सके। वह खुद देर रात शहर में ब्रेड खरीदने के लिए भटकती रही। साथ ही उन्होंने कहा कि हम पर जो गुजर रहा है वह असहनीय है लेकिन येरुशलम को कुर्बानियों की जरूरत भी है।