एक्टर ने भाजपा नेता तेजस्वी सूर्या को बताया आतंकी कसाब से भी खतरनाक, बाद में डिलीट कर दिया ट्वीट

प्रतिक्रिया में दक्षिण भारत के फिल्मकार सिद्धार्थ को मनोरोगी, साइकोपैथ और घाम़ड़-बदसूरत तक कहा गया।

South Indian Film Industry, Tamil, Telugu, Movies, Siddharth, Filmmaker, BJP, MP Thejaswi Surya

भारतीय एक्टर फिल्मकार सिद्धार्थ ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी के सांसद तेजस्वी सूर्या के प्रति बड़ी खराब बात कही। बाद में उन्होंने खुद ही बयान रद्द कर दिया। ट्वीट में सिद्धार्थ ने कहा था कि तेजस्वी सूर्या अजमल कसाब से भी बड़ा आतंकवादी है। वह कसाब से बस दस साल ही तो बड़ा है।

सुबह नौ बजे की इस ट्वीट का अंत सिद्धार्थ ने यह कहकर किया है कि इस ट्वीट को सेव कर लीजिए…दुर्भाग्य से ट्वीट की उम्र बड़ी लंबी है। लेकिन, इस ट्वीट की उम्र कतई लंबी नहीं रही और दक्षिण भारत में तमिल और तेलगू इंडस्ट्री में सक्रिय इस फिल्मकार ने ट्वीट डिलीट कर दी। सिद्धार्थ दक्षिण के अलावा इक्का-दुक्का हिन्दी फिल्मों में भी काम कर चुके हैं। रंग दे बसंती के लिए उन्हें सराहना भी मिली थी।

उल्लेखनीय है कि बेंगलुरू के युवा भाजपा सांसद पार्टी में बेहद लोकप्रिय हैं। जनता का एक वर्ग भी उन्हें बहुत पसंद करता है लेकिन ऐसे लोग भी काफी संख्या में हैं जो तेजस्वी के उग्र विचारों को फासिज्म से जोड़कर देखते हैं। अभी दो दिन पहले ही तेजस्वी ने कोविड बेड आवंटन घपले का मामला उठाया था लेकिन उनके एक बयान से मामले ने सांप्रदायिक रूप ले लिया।

इस बीच पत्रकार और लेखक के रूप में सक्रिय रहने वाली शेफाली वैद्य ने तेजस्वी की तुलना कसाब से करने के लिए सिद्धार्थ को जमकर खरी-खोटी सुनाई है। एक ट्वीट में सिद्धार्थ को मनोरोगी, साइकोपैथ और घामड़ तक कह कर शेफाली ने लोगों से अपील की है कि इस बदसूरत आदमी के खिलाफ मुकदमा चलाया जाए।

गौरतलब है कि बीजेपी युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बेंगुलरु से सांसद तेजस्वी सूर्या ने अपनी ही पार्टी की सरकार को घेरा है। दरअसल, सूर्या ने राज्य सरकार पर आरोप लगाया कि कोरोना मरीजों को अस्पतालों में भर्ती करने के नाम पर घूस ली गई। बीजेपी सांसद के इन आरोपों के बाद कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने बुधवार को पुलिस की अपराध शाखा को इन आरोपों की जांच करने का आदेश दिया और सूर्या के चाचा सहित दो पार्टी विधायकों समेत सांसदों से पूछताछ की गई। इस घोटाले में शामिल 205 लोगों में 17 मुस्लिम कार्यकर्ता भी शामिल हैं।