एलएसी पर संकट: पांच साल और करोड़ों खर्च के बाद फेल हुआ लद्दाख का बड़ा प्रोजेक्ट, गृह और जल शक्ति मंत्रालय में छिड़ी रार

पूर्वी लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा की रक्षा करने वाले अर्धसैनिक बल आईटीबीपी के लिए आल वेदर कंट्रोल बार्डर आउटपोस्ट बनाए जा रहे थे। लेकिन पांच साल और करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद अब लद्दाख का यह बड़ा प्रोजेक्ट फेल हो गया है।

Ministry of Home Affairs, Ladakh, National Projects Construction Corporation, Line of Actual Control, Ladakh news, Ladakh latest news, india news, jansatta जवानों के लिए आल वेदर कंट्रोल बार्डर आउटपोस्ट बनाने वाला लद्दाख का बड़ा प्रोजेक्ट फेल हो गया है। (express file)

पूर्वी लद्दाख की वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर अब भी भारत और चीनी की सेना आमने-सामने हैं। ऐसे समय में इस क्षेत्र की रक्षा करने वाले अर्धसैनिक बल आईटीबीपी के लिए आल वेदर कंट्रोल बार्डर आउटपोस्ट बनाए जा रहे थे। लेकिन पांच साल और करोड़ों रुपए खर्च करने के बाद अब लद्दाख का यह बड़ा प्रोजेक्ट फेल हो गया है।

इस प्रोजेक्ट के फेल होने के बाद सरकार के दो प्रमुख मंत्रालय गृह मंत्रालय और जल शक्ति मंत्रालय में रार छिड़ गई है।  सरकार ने  इस परियोजना की घोषणा 2015 में की थी। इसके तहत बार्डर पर 40 एकीकृत सीमा चौकियों (BOPs) का निर्माण किया जाना था। इस क्षेत्र में ये अपने तरह के पहले बीपीओ थे जिसमें  फ्रीज-प्रूफ शौचालय था और इसमें बहते हुए पानी की भी व्यवस्था थी। इस बीपीओ का तापमान 22 डिग्री सेल्सियस से ऊपर रखा जा सकता था। इससे फोर्स को अपनी ड्यूटी करने में भी आसानी होती और सीमा पार की गतिविधियों पर वह अपनी पैनी नजर रख सकती थी।