ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट ने सुरक्षा गार्ड्स के साथ किया Prank, वीडियो देख हो जाएंगे हंसते-हंसते लोट-पोट

ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट ने लिखा, “ओलंपिक की मेजबानी करने, लोगों को अपने सपनों को पूरा करने और दुनिया को खेल की शक्ति दिखाने के लिए जापान को धन्यवाद!” केल्सी ने कहा कि अब वे पैरालिंपिक देखने के लिए उत्साहित है।

Olympic Gold Medallist, Kelsey Mitchell, Canadian cyclist, prank, instagram, jansatta केल्सी मिशेल ने हाल ही में संपन्न टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीता था। (pc- instagram)

कनाडा की साइकिलिस्ट केल्सी मिशेल ने हाल ही में संपन्न टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने के बाद जापान से विदाई लेते हुए एक इंस्टाग्राम पोस्ट शेयर किया। उन्होंने एक लंबा भावुक संदेश लिखा है साथ ही इस पोस्ट के साथ उन्होंने एक प्रैंक वीडियो भी शेयर किया है।

वीडियो में केल्सी एक मेटल डिटेक्टर से निकलती हैं और मशीन बीप करना शुरू कर देती है। जिसके बाद वहां खड़े सुरक्षाकर्मी उनके पास आ जाते हैं। वे थोड़ा हैरान नज़र आती हैं कि ये आवाज़ क्यों आ रही है। उसके पास कोई मेटल नहीं है। लेकिन थोड़ी देर के बाद वह हांसते हुए टी-शर्ट के अंदर से स्वर्ण पदक निकलती हैं। जिसे देख वहां खड़े सभी सुरक्षाकर्मी और स्वयंसेवक हांस पड़ते हैं।

इसके बाद सभी 27 वर्षीय कनाडाई को बधाई देने लगते हैं और तालियां बजाने लगते हैं। अपने पोस्ट में केल्सी ने लिखा, “जापान के लिए चिल्लाओ! मैंने इस देश को ज्यादा नहीं देखा … मेरे पास सुशी भी नहीं थी! लेकिन यहां के लोग अविश्वसनीय थे! इतने दयालु, विनम्र, मददगार, सकारात्मक, मिलनसार, और वे मेरे चुटकुलों पर भी हंसते थे।”

ओलंपिक गोल्ड मेडलिस्ट ने लिखा, “ओलंपिक की मेजबानी करने, लोगों को अपने सपनों को पूरा करने और दुनिया को खेल की शक्ति दिखाने के लिए जापान को धन्यवाद!” केल्सी ने कहा कि अब वे पैरालिंपिक देखने के लिए उत्साहित है।

बता दें कनाडा की केल्सी मिशेल ने यूक्रेन की ओलेना स्टारिकोवा को पछाड़ते हुए टोक्यो ओलंपिक खेलों की ट्रैक साइकिलिंग में महिलाओं की स्प्रिंट स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था। मिशेल ने इससे पहले सेमीफाइनल में जर्मनी की मौजूदा विश्व चैंपियन एम्मा हिंज और स्टारिकोवा ने 2019 की विश्व चैंपियन ली वाई सेज को पछाड़कर उलटफेर किया था।

इस स्पर्धा में हांगकांग की सेज ने जर्मनी की हिंज को हराकर कांस्य पदक अपने नाम किया। मिशेल 2004 के बाद इस स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीतने वाली कनाडा की पहली खिलाड़ी है।