कर्नाटकः सीएम के खिलाफ अपनों का मोर्चा, हाईकमान ने स्टेट इंचार्ज को सौंपा जिम्मा, यूपी की तर्ज पर होगा रिव्यू

खास बात यह है कि समीक्षा यूपी की तर्ज पर होगी। इसके पीछे जो वजह बताई जा रही है वह यह है कि राज्य के कई नेता मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ खुलकर सामने आ गए हैं। इनमें से वे भी नेता हैं, जो कभी उनके खासमखास में शामिल थे।

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा। (इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

कर्नाटक में पार्टी के अंदर सीएम के खिलाफ गहराते राजनीतिक संकट के बीच भाजपा आलाकमान ने प्रदेश नेताओं से बातचीत करने के लिए अपने वरिष्ठ नेता को बेंगलूरु भेजा है। बीजेपी के कर्नाटक प्रभारी अरुण सिंह राज्य में वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात करेंगे और उनकी शिकायतें सुनेंगे। बताया जा रहा है कि इस दौरान सरकार के कामकाज की समीक्षा भी होगी। खास बात यह है कि समीक्षा यूपी की तर्ज पर होगी। इसके पीछे जो वजह बताई जा रही है वह यह है कि राज्य के कई नेता मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के खिलाफ खुलकर सामने आ गए हैं। इनमें से वे भी नेता हैं, जो कभी उनके खासमखास में शामिल थे।

येदियुरप्पा के ही जिले शिवमोग्गा के निवासी और उनके करीबी रहे ग्रामीण विकास मंत्री केएस ईश्वरप्पा ने राज्यपाल वजुभाई वाला को पत्र लिखकर गंभीर आरोप लगाया था कि मुख्यमंत्री उनके विभागों में हस्तक्षेप करते हैं। पांच पन्नों के पत्र में उन्होंने येदियुरप्पा पर अधिनायकवाद और गंभीर चूक का आरोप लगाया गया है। येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली सरकार के प्रदर्शन पर भाजपा के मूड का जायजा लेने के लिए अरुण सिंह की कर्नाटक यात्रा ने भाजपा के राज्य प्रभारी के हालिया बयान के कारण राजनीतिक उत्सुकता बढ़ा दी है। उन्होंने अपने बयान में कहा था कि “येदियुरप्पा अच्छा काम कर रहे हैं ” और खुद सीएम ने भाजपा के नेतृत्व में बदलाव की अटकलों पर मिले-जुले संकेत दिए थे।

भाजपा महासचिव और कर्नाटक के प्रभारी अरुण सिंह के राज्य के दौरे पर निशाना साधते हुए कांग्रेस ने बुधवार को कि लोगों की सेवा करने की बजाय वह पार्टी में अंदरूनी कलह को सुलझाने आए हैं। सिंह बुधवार को बीएस येदियुरप्पा मंत्रिमंडल के मंत्रियों के साथ बैठक करने वाले हैं। वह तीन दिवसीय दौरे पर बेंगलुरु आए हैं और इस दौरान वह बृहस्पतिवार को सत्ताधारी दल के विधायकों के साथ चर्चा करेंगे तथा शुक्रवार को प्रदेश भाजपा की कोर कमेटी को संबोधित करेंगे।

कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की अटकलों के बीच हाल ही में सिंह ने मुख्यमंत्री को बदलने की खबरों का खंडन किया था और कहा था कि येदियुरप्पा पद पर बने रहेंगे। माना जा रहा है कि भाजपा का एक वर्ग येदियुरप्पा को पद से हटाने का दबाव बना रहा है। सिंह के दौरे से पहले कर्नाटक कांग्रेस ने ट्वीट किया, “श्री अरुण सिंह, आप यहां ‘प्लेटफॉर्म पंचायत बैठक’ के लिए आ रहे हैं लेकिन आपके पास लोगों की शिकायतें सुनने का समय नहीं है? सत्ता में आने के पहले दिन से ही, यह सरकार अपनी उपलब्धियों के कारण नहीं बल्कि अंतर्कलह की वजह से सुर्खियों में रही है।” विपक्षी दल ने आरोप लगाया कि जब राज्य में गंभीर समस्याएं थीं, तब भारतीय जनता पार्टी की अंदरूनी कलह चरम पर थी।