कर्नाटक के मंत्री पर लगे यौन शोषण के आरोप, दे दिया इस्तीफा, भाई ने की सीबीआई जांच की मांग

एक सामाजिक कार्यकर्ता, दिनेश कालाहल्ली ने मंत्री के खिलाफ कब्बन पार्क पुलिस ठाणे में शिकायत दर्ज़ कराई है। कालाहल्ली ने आरोप लगाया है कि वीडियो क्लिप में मंत्री ने महिला को सरकारी नौकरी का लालच देकर उसके साथ रेप किया है।

Ramesh Jarkiholi, Ramesh Jarkiholi resignation, Ramesh Jarkiholi resigns, Ramesh Jarkiholi sexual harrasment, Ramesh Jarkiholi resignation

कर्नाटक के जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली ने बुधवार को अपने खिलाफ यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा को अपना इस्तीफा सौंप दिया। उनका इस्तीफा उस कथित वीडियो क्लिप के वायरल होने के बाद आया है जिसमें वे एक अज्ञात महिला के साथ अंतरंग होते दिखाई दे रहे हैं। दोनों के बीच कुछ बातचीत भी हो रही है। कन्नड़ समाचार चैनलों पर उनका यह वीडियो लगातार चलाया जा रहा है। जिसके बाद सत्तारूढ़ भाजपा के भीतर विवाद पैदा हो गया है।

एक सामाजिक कार्यकर्ता, दिनेश कालाहल्ली ने मंत्री के खिलाफ कब्बन पार्क पुलिस ठाणे में शिकायत दर्ज़ कराई है। कालाहल्ली ने आरोप लगाया है कि वीडियो क्लिप में मंत्री ने महिला को सरकारी नौकरी का लालच देकर उसके साथ रेप किया है। बुधवार को अपने ऊपर लगे आरोपों को खारिज करते हुए रमेश जारकिहोली ने नैतिक आधार पर इस्तीफा दे दिया। उनके भाई और भाजपा विधायक बालाचंद्र जारकीहोली ने मामले में सीबीआई जांच की मांग की है।

इन आरोपों के बारे में जारकिहोली ने कुछ समाचार चैनलों से कहा कि वह हैरान हैं और ये वीडियो सौ फीसदी फर्जी हैं। उन्होंने मामले की जांच की मांग की। सीएम येदियुरप्पा को दिए गए पत्र में जारकीहोली ने कहा “मेरे खिलाफ लगाए गए आरोप झूठे हैं। इसकी जांच होनी चाहिए। हालांकि मुझे निर्दोष साबित होने का विश्वास है, लेकिन मैं नैतिक आधार पर अपना इस्तीफा सौंप रहा हूं। कृपया मेरा इस्तीफा स्वीकार करें।”

कर्नाटक के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने बुधवार को कहा कि मंत्री रमेश जारकिहोली के खिलाफ एक शिकायत में लगाए गए यौन उत्पीड़न के आरोपों की जांच पुलिस द्वारा की जाएगी। बोम्मई ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘जो भी शिकायत है, उसके आधार पर हम कानून के मुताबिक जांच कर रहे हैं।’’

उप मुख्यमंत्री सीएन अश्वत्थ नारायण ने कहा कि तथ्यों को जाने बगैर मुद्दे पर टिप्पणी करना ठीक नहीं होगा क्योंकि हो सकता है कि आरोप दुर्भावना से प्रेरित होकर लगाए गए हों।