कांग्रेस खुद ही सुसाइड करने पर तुली, मोदी-शाह का काम नहीं विपक्ष को मज़बूत करना- बोले संबित पात्रा तो मिला ये जवाब

पंजाब कांग्रेस में जारी कलह पर बोलते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का नाम लेते हुए कहा कि कांग्रेस खुद का अस्तित्व मिटाने पर तुली है।

punjab congress, navjot singh sidhu, captain amrinder singh मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के गुट में कलह जारी है (File Photo)

पंजाब में कांग्रेस पार्टी के अंदर जारी सियासी कलह के बीच शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस के चीफ़ नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार मालविंदर सिंह माली ने इस्तीफा दे दिया। पंजाब सीएम और जम्मू कश्मीर को लेकर विवादित बयान देने को लेकर पार्टी आलाकमान ने सिद्धू के सलाहकार को हटाने का आदेश दिया था जिसके बाद उनका यह इस्तीफा सामने आया है। वहीं, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के गुट के बीच बयानबाज़ी का दौर खत्म होता नहीं दिख रहा। इसी मुद्दे पर बोलते हुए बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह का नाम लेते हुए कहा कि कांग्रेस खुद का अस्तित्व मिटाने पर तुली है।

न्यूज 24 के डिबेट शो, ‘सबसे बड़ा सवाल’ में एंकर संदीप चौधरी ने संबित पात्रा से पूछा, ‘आपने कांग्रेस मुक्त भारत का नारा बुलंद किया था, अब कांग्रेस चाह रही है, भारत को कोंग्रेस मुक्त बनाना। आपका काम कर रही है?’

संबित पात्रा बोले, ‘अब वो सुसाइड करेंगे तो हम क्या करेंगे? हम तो प्यार से इतना ही कह सकते हैं कि सुसाइड करना अच्छा बात नहीं। अब वो फंदा लगाकर अपने आप को मारने में तुले हुए हैं, हम क्या कर सकते हैं। लोकतंत्र में एक मजबूत विपक्ष होना चाहिए लेकिन ये काम मोदी और अमित शाह का नहीं है न कि वो मजबूत विपक्ष बनाकर भी देंगे। ये तो खुद ही बनाना पड़ेगा उनको।’

संबित पात्रा ने कांग्रेस को लेकर एक कहानी सुनानी शुरू की और कांग्रेस के नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम पर निशाना साधते हुए कहा, ‘आचार्य जी कह रहे थे कि हमारी बड़ी पार्टी है, बहुत सी विचारधाराएं हैं हमारी पार्टी में। विचारधारा तो एक ही होती है, बहुत सारी विचारधारा क्लब हाउस में हो सकती हैं। पार्टी में एक ही विचारधारा होती है।’

संबित पात्रा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी में नेतृत्व, नीति और नियत की कमी है। राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि वो चाहते हैं, घर बैठे वर्चुअल मीटिंग करके वो पीएम बन जाएं।

बहरहाल, नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा है कि पार्टी नेतृत्व उन्हें फैसले करके की आजादी दे, नहीं तो वो इसका मुंहतोड़ जवाब देंगे। वहीं दूसरी तरफ़ कांग्रेस कह रही है कि पार्टी की राज्य इकाइयों के प्रमुख को कांग्रेस के मापदंडों और संविधान के दायरे में रहकर फैसले लेने की आजादी है।