कांग्रेस में घुट रहा पाटीदार नेता का दम? अपनी ही पार्टी पर बरसे हार्दिक पटेल, कहा- INC नेता ही शायद मुझे खींच रहे नीचे

कांग्रेस ने हार्दिक पटेल को दो साल पहले 12 मार्च 2019 को गुजरात में पार्टी का प्रमुख बनाया था। हालांकि, तब से लेकर अब तक हार्दिक राज्य में पार्टी के लिए कोई करिश्माई प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं।

Congress, Hardik Patel

गुजरात में विधानसभा चुनाव में अब एक साल का ही समय रह गया है। हालांकि, इससे पहले नगर निकाय चुनावों में ही भविष्य की तस्वीर थोड़ी साफ होती दिख रही है। दरअसल, भाजपा ने हाल ही में हुए छह जिलों के निकाय चुनावों में बेहतरीन प्रदर्शन किया। वहीं, कांग्रेस को बड़ा नुकसान उठाना पड़ा। यहां तक कि पाटीदार नेताओं का गढ़ कहे जाने वाले सूरत में भी उसे नुकसान झेलना पड़ा, जबकि गुजरात कांग्रेस के प्रमुख हार्दिक पटेल खुद पाटीदार आंदोलन की देन हैं। अब इसे लेकर हार्दिक ने चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने आरोप लगाया है कि उनकी पार्टी उन्हें ठीक से इस्तेमाल नहीं कर रही। पाटीदार नेता ने आशंका जताई कि कांग्रेस के कुछ चेहरे उन्हें नीचे खींचने की कोशिश में हैं।

मोरबी के रवापुर में एक प्रचार अभियान के दौरान ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से बातचीत में हार्दिक ने कहा कि कांग्रेस के राज्य के नेतृत्व ने अब तक स्थानीय चुनाव से पहले उनके साथ एक सार्वजनिक बैठक नहीं रखी है। हार्दिक का कहना है कि पिछले 10 दिनों में उन्होंने 27 सार्वजनिक रैली की हैं, वह भी अपने दम पर। पाटीदार नेता ने कहा कि अगर अहमद पटेल जिंदा होते तो वे भाजपा को इतनी आसानी से 219 सीटों का फायदा नहीं लेने देते।

पिछली बार के निकाय चुनावों को लेकर हार्दिक ने कहा, “2015 में पूरे गुजरात के नतीजे, फिर चाहे वह तालुका हो, जिला हो, नगरपालिका या महानगरपालिका, सभी के कोटे के आंदोलन की वजह से आए थे और कांग्रेस को यह बात माननी होगी। मैं पार्टी नेताओं को बताता रहता हूं कि आप लोगों को उन्हें समझना होगा, जो आंदोलन से आए हैं, क्योंकि हम ही लगातार दौरा कर रहे हैं। यहां तक कि अभी भी मेरे दौरे जारी हैं। मेरे एक भी दिन का दौरे का फैसला प्रदेश कांग्रेस कमेटी (पीसीसी) नहीं करती है।”

हार्दिक ने कहा, “मैं पार्टी को मजबूत करना चाहता हूं, चाहे कोई और यह चाहे या नहीं। वे (कांग्रेस नेता) मुझे नीचे लाने की कोशिश करें, चाहे धक्का देकर हटाने की, उन्हें कोशिश करने दें, मैं फिर खड़ा हो जाउंगा क्योंकि आंदोलन के दौरान भी भाजपा ने मुझे नीचे लाने की कोशिश की और मैं फिर उठ खड़ा हुआ।”

बता दें कि कांग्रेस ने हार्दिक पटेल को दो साल पहले 12 मार्च 2019 को गुजरात में पार्टी का प्रमुख बनाया था। हालांकि, तब से लेकर अब तक हार्दिक राज्य में पार्टी के लिए कोई करिश्माई प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। इस पर हार्दिक कहते हैं- “कई बार मैं पार्टी से कहता हूं कि जब मैंने कांग्रेस जॉइन की थी, तब मुझे लगा था कि वह मेरा इस्तेमाल करेगी। अब मुझे लगता है कि मेरा प्रदेश हाई-कमांड और राज्य के कांग्रेस प्रभारी मेरा ठीक से इस्तेमाल करने में असफल रहे हैं।”

हार्दिक ने कहा, “मेरी बैठकों का आयोजन कीजिए। मैं एक दिन में 25 बैठकें करने के लिए तैयार हूं। मुझसे कहिए कि तुम्हें एक दिन में 500 किमी पदयात्रा करनी है। मुझे कुछ तो काम दीजिए। मैं पार्टी को बार-बार कहता हूं कि मुझे कुछ तो काम दीजिए।”