कितने में मिलेगी कोरोना वैक्सीन? सरकार ने बताया, 45 साल के ऊपर वालों के लिए यह है को-मॉर्बिडिटीज की लिस्ट

1 मार्च से 60 साल से ज्‍यादा उम्र वाला हर नागरिक टीकाकरण के योग्‍य होगा। वहीं 45 साल से अधिक आयु वाले उन लोगों को पहले टीका दिया जाएगा जिन्हें को-मॉर्बिडिटीज हैं। यानि ऐसे लोग जिन्‍हें पहले से बीमारियां हैं और कोविड-19 का ज्‍यादा खतरा है।

COVID vaccine, COVID-19, Covid vaccine, कोविड टीका कहां कहां लगेगा, कोरोना वैक्‍सीन का रेट क्‍या होगा, कोरोना टीका कितने में मिलेगा, कोरोन टीका किनको लगेगा, coronavirus vaccine india faq in hindi, corona vaccine latest news hindi, corona vaccine kitne ki hai, corona vaccine ki kimat kya hai, corona vaccine ka price, corona tikakaran ki news, jansatta

कोरोना वायरस का प्रकोप देश से धीरे-धीरे कम हो रहा है। भारत में कोरोना वैक्सीनेशन कार्यक्रम 16 जनवरी से शुरू हो चुका है। वैक्सीनेशन के पहले चरण में हेल्थ वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स को वैक्सीन की डोज दी गई। लेकिन अब 1 मार्च से आम नागरिकों को इसका डोस दिया जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 1 मार्च से 60 साल से ज्‍यादा उम्र वाला हर नागरिक टीकाकरण के योग्‍य होगा। वहीं 45 साल से अधिक आयु वाले उन लोगों को पहले टीका दिया जाएगा जिन्हें को-मॉर्बिडिटीज हैं। यानि ऐसे लोग जिन्‍हें पहले से बीमारियां हैं और कोविड-19 का ज्‍यादा खतरा है। सरकार ने अभी तक बीमारियों की लिस्‍ट जारी नहीं की है। हालांकि अधिकारियों के अनुसार हाइपरटेंशन, डायबिटीज, कैंसर के अलावा दिल, गुर्दे और फेफड़े से जुड़ी कुछ बीमारियों को भी इसमें शामिल किया जा सकता है।

को-मॉर्बिडिटीज वाले लोगों को टीकाकरण केंद्र पर एक सर्टिफिकेट दिखाना होगा। यह सर्टिफिकेट किसी रजिस्‍टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर की तरफ से अटेस्‍ट किया होना चाहिए। सरकारी सुविधाओं पर वैक्सीनेशन नि: शुल्क होगा। वहीं निजी अस्पताल जो केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना, आयुष्मान भारत और इसी तरह के राज्य स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के तहत सूचीबद्ध हैं, वहां वैक्सीन का एक निश्चित मूल्य होगा।

व्हाट्सएप पर एक संदेश प्रसारित किया जा रहा है जिसमें दावा किया गया है कि वैक्सीनेशन का शुल्क 500 रुपये होगा। केंद्र ने अभी तक वैक्सीन की कीमतें को लेकर कोई फैसला नहीं लिया है। आयुष्मान भारत-PMJAY के तहत लगभग 10,000 अस्पताल और CGHS के तहत 687 अस्पताल राज्यों द्वारा कोरोना वैक्सीनेशन सेंटरके रूप में उपयोग किए जा सकते है।

सरकार ने 12 तरह के पहचान पत्रों की लिस्‍ट जारी की है। जिनको दिखाकर आप वैक्सीन लगवा सकते हैं। लोग आधार कार्ड, वोटर आईडी, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, PAN कार्ड, हेल्‍थ इंश्‍योरेंस स्‍मार्ट कार्ड, पेंशन डॉक्‍युमेंट, बैंक/पोस्‍ट ऑफिस पासबुक, मनरेगा जॉब कार्ड, MP/MLA/MLC का आईडी कार्ड, सरकारी कर्मचारियों का सर्विस आईडी कार्ड और नैशनल पॉपुलेशन रजिस्‍टर के तहत जारी स्‍मार्ट कार्ड का उपयोग कर सकते हैं।

कोरोना वैक्सीन कितने में मिलेगी इसको लेकर सरकार ने अभी तक कोई औपचारिक घोषणा नहीं की है। द इंडियन एक्‍सप्रेस से बातचीत में महाराष्‍ट्र के हेल्‍थ सेक्रेटरी डॉ प्रदीप व्‍यास ने कहा कि निजी अस्‍पताल को‍विड वैक्‍सीनेशन सेंटर बनने के लिए 100 रुपये प्रति व्‍यक्ति के हिसाब से चार्ज करेंगे। इसके अलावा वे वैक्‍सीन की लागत 150 रुपये प्रति व्‍यक्ति वसूल करेंगे। ऐसे में प्रति व्‍यक्ति अधिकतम चार्ज 250 रुपये प्रति डोज होगा।