किम जोंग उन ने दिया दक्षिण कोरिया के साथ हॉटलाइन बहाल करने का आदेश

प्योंगयांग. उत्तर कोरिया (North Korea) के नेता किम जोंग उन (Kim Jong Un) ने कहा है कि वह अक्टूबर की शुरुआत में दक्षिण कोरिया (South Korea) के साथ ‘हॉटलाइन’ (Hotline) बहाल करेंगे. एक सरकारी मीडिया रिपोर्ट में गुरुवार को किम के इस बयान की जानकारी दी गई.

‘कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी’ (केसीएनए) ने किम के हवाले से कहा कि इस कदम का लक्ष्य दोनों देशों के बीच शांति की कोरियाई लोगों की इच्छा को पूरा करना है. किम के इस बयान से एक ही दिन पहले उत्तर कोरिया ने बुधवार को दावा किया था कि उसने एक नई ‘हाइपरसोनिक मिसाइल’ का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है.

किम जोंग उन ने अपनी बहन को दिया प्रमोशन, अब मिला ये पद

दुश्‍मनी की नीति त्‍यागने की मांग
केसीएनए ने कहा कि किम ने यह बयान देने के साथ ही दक्षिण कोरिया से अपील की कि वह अपने ‘‘अनुचित दोहरे व्यवहार’’ और ‘‘शत्रुतापूर्ण नीतियों’’ को त्याग दे. किम ने यह भी कहा कि अमेरिका की ‘‘शत्रुतापूर्ण नीतियां’’ और ‘‘सैन्य खतरे’’ अब भी बने हुए हैं. उसका वार्ता का हालिया प्रस्ताव केवल इस शत्रुता को छुपाने की कोशिश है. कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि उत्तर कोरिया, दक्षिण कोरिया पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है ताकि वह अमेरिका को आर्थिक प्रतिबंधो में ढील और अन्य रियायतें देने के लिए राजी कर पाए.

छोड़ने होंगे दोहरे मापदंड
दक्षिण कोरिया ने रविवार को पड़ोसी देश की तरफ से आए उस बयान का स्‍वागत किया है जिसमें कहा गया था कि वो वार्ता शुरू करने का इच्‍छुक है. किम जोंग का बयान उस समय आया है जब उत्‍तर कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया से अपील की थी कि दोनों देश अपनी दुश्‍मनी की नीति को त्‍याग दें. किम ने कहा था कि अगर 1950-53 से जारी कोरियाई युद्ध को खत्‍म करने के लिए औपचारिक वार्ता का आयोजन होता है तो अमेरिका और दक्षिण कोरिया को उनके देश के लिए दोहरे मापदंडों को छोड़ना पड़ेगा.

आएगी दोनों देशों के बीच शांति
परमाणु हथियारों के लिए उत्‍तर कोरिया की बढ़ती भूख ने इस मसले को उलझा कर रख दिया है. किम जोंग की बहन किम यो जोंग की तरफ से इस पर टिप्‍पणी की गई थी. उन्‍होंने कहा था कि एक सही रवैया और अपक्षपाती व्यवहार ही नॉर्थ और साउथ कोरिया के रिश्‍तों को मजबूत कर सकता है. किम जोंग उन ने अमेरिका की तरफ से की गई बातचीत की पेशकश को महज दिखावा करार दिया है. मगर उनका मानना है कि हॉटलाइन बहाल होने के बाद दक्षिण कोरिया के साथ रिश्‍तों में शांति आएगी.

ट्यूनीशिया में पहली बार महिला बनीं प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति कैस सईद के फैसले से हर कोई हैरान

अमेरिका पर लगाया बड़ा आरोप
बुधवार को किम ने देश की संसद को संबोधित किया था. यहां पर उन्‍होंने अमेरिका पर दुश्‍मनी बढ़ाने का आरोप लगाया था. अमेरिका और उत्‍तर कोरिया के बीच फरवरी 2019 से कोई वार्ता नहीं हुई है. उस समय हनोई सम्‍मेलन में तत्‍कालीन राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने किम जोंग उन से मुलाकात की थी. मीटिंग तब हुई थी जब नॉर्थ कोरिया ने अपने सभी परमाणु हथियारों को त्‍यागने का वादा किया था और उसने बदले में खुद पर लगे प्रतिबंधों को हटाने की मांग की थी. (एजेंसी इनपुट)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.