किसानों और केंद्र के बीच नहीं टूटा डेडलॉक, BJP सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने आठ महीने पहले PM नरेंद्र मोदी को दिए थे ये तीन सुझाव

भाजपा राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी अपने ट्वीट में अक्सर मोदी सरकार को सुझाव देते रहते हैं। इसके साथ ही केंद्र सरकार की नीतियों पर भी वो निशाना साधने से पीछे नहीं हटते।

BJP, Rahul Gandhi BJP MP Subramanian Swamy (Photo Source – PTI)

बीते 9 महीने से दिल्ली की सीमा पर कृषि कानूनों के विरोध में किसान संगठनों का आंदोलन चल रहा है। इस आंदोलन को खत्म करने को लेकर सरकार और किसान नेताओं की बीच कई दौर की वार्ता हुई लेकिन कोई ठोस हल नहीं निकल सका। ऐसे में अब भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक ट्वीट में लिखा है कि, आठ महीने पहले मैंने जो तीन सुझाव दिए थे, उसे अगर बिल में रखा जाए तो किसानों और सरकार के बीच डेडलॉक टूट सकता है और आंदोलन खत्म हो सकता है। उन्होंने कहा कि, तीनों कृषि कानून वहीं लागू हों जो राज्य इसके लिए लिखित रूप में देते हैं।

क्या थे वो तीन सुझाव: सुब्रमण्यम स्वामी इसी साल फरवरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नाम एक पत्र लिखकर कृषि कानूनों को लेकर तीन सुझाव दिए थे। पत्र में उन्होंने कहा था कि अगर केंद्र सरकार उनके सुझावों पर अमल करे तो किसान आंदोलन खत्म हो सकता है। सुझावों में कहा गया था कि, केंद्र सरकार के कृषि कानूनों का कार्यान्वयन उन राज्यों तक सीमित हो, जो इसे स्वीकार करने के लिए तैयार हों। इन कानूनों को पूरे देश पर जरूरी नहीं बनाया जाये।

उन्होंने लिखा था कि, जो राज्य कृषि कानूनों में बदलाव चाहते हैं, वो अपने सुधार केंद्र को लिखित में दें और उसके बाद उन राज्यों में इस कानून को लागू किया जाये। बता दें कि सैद्धांतिक तौर पर पंजाब ही इन कानूनों को लागू नहीं करना चाहता है।

पत्र में सुब्रमण्यम स्वामी ने दूसरा सुझाव दिया था कि, कृषि कानूनों का विरोध करने वालों को बताना चाहिए कि, न्यूनतम समर्थन मूल्य(एमएसपी) के लिए हर राज्य पात्र होगा। वहीं तीसरे सुझाव में उन्होंने कहा कि, अनाजों की खरीददारी को वहीं तक सीमित किया जाये जहां पर कृषि व्यापार के अलावा दूसरा कोई और वाणिज्यिक और व्यावसायिक हित ना हो।

अक्सर देते हैं मोदी सरकार को सुझाव: बता दें कि इन सुझावों को लेकर सुब्रमण्यम स्वामी का मानना है कि अगर केंद्र सरकार कृषि कानूनों में इसे शामिल करे तो दिल्ली की सीमा पर चल रहे विरोध प्रदर्शन जल्द ही समाप्त हो सकता है। उल्लेखनीय है कि सुब्रमण्यम स्वामी अक्सर अपने ट्वीट के जरिए मोदी सरकार को सुझाव देते रहते हैं। इसके साथ ही वो केंद्र की नीतियों को पर निशाना साधना भी नहीं भूलते।

पीएम मोदी को साथ देने का किया वादा: 17 सितंबर को पीएम मोदी के जन्मदिन पर उन्होंने एक चिट्ठी में लिखा था कि, ‘आपके जन्मदिन के मौके पर मैं आपके स्वस्थ जीवन और आने वाले सालों में राष्ट्र की सेवा करते रहने की कामना करता हूं। बीते 21 सालों से आप देश की सेवा करते आ रहे हैं। मैं विश्वास दिलाता हूं कि राष्ट्र के लिए जहां भी मेरी जरूरत होगी, मैं आपके साथ खड़ा रहूंगा।’