किसान आंदेलन के बीच टिकरी बॉर्डर पर युवती से रेप का आरोप, टि्वटर पर उठी मांग- योगेंद्र यादव को अरेस्ट करो

नेहा बेनीवाल नाम के यूजर ने लिखा कि उन्हें पता था लेकिन उन्होंने चुप रहना चुना। जो अपराधी की रक्षा करने की कोशिश करता है, वह अपराधी भी है।

yogendra yadav, farm laws, tv debate

बंगाल से किसान आंदोलन में हिस्सा लेने के लिए आयी युवती के साथ हुए बलात्कार के मामले को लेकर पुलिस जांच कर रही है। इधर इस मामले को लेकर ट्विटर पर लोगों ने योगेंद्र यादव को अरेस्ट करने की मांग की है। लोगों का आरोप है कि घटना को लेकर योगेंन्द्र यादव को जानकारी थी।

बताते चलें कि महिला के पिता ने आरोप लगाया था कि उनकी बेटी से तब दुष्कर्म किया गया, जब वह किसानों का समर्थन करने के लिए एक संगठन के कुछ सदस्यों के साथ बॉर्डर पर गयी थी। पुलिस ने मामले की जांच के लिए रविवार को विशेष जांच टीम (एसआईटी) गठित की थी। महिला के पिता ने शनिवार को दी गयी शिकायत में कहा था कि वह बंगाल से हरियाणा-दिल्ली के बीच टिकरी बॉर्डर गयी थी। शिकायत में कहा गया कि उनकी बेटी को 25-26 अप्रैल की रात झज्जर जिले के बहादुरगढ़ में एक अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसमें कोविड-19 संक्रमण के लक्षण देखने को मिले जिसके बाद उसकी मृत्यू हो गयी।

ट्विटर पर बीजेपी के हरियाणा आईटी सेल के प्रमुख अरुण यादव ने लिखा कि मैं योगेंद्र यादव की गिरफ्तारी की मांग करता हूं। नेहा बेनीवाल नाम के यूजर (@NehaBeniwal18) ने लिखा कि उन्हें पता था लेकिन उन्होंने चुप रहना चुना। जो अपराधी की रक्षा करने की कोशिश करता है, वह अपराधी भी है।

अर्पिता चटर्जी (@arpitahindu) नाम के यूजर ने लिखा कि योगेन्द्र यादव को उस जघन्य घटना के बारे में सब कुछ पता है फिर भी वह ऐसे व्यक्ति पर चुप थे। उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जरूरत है।

बताते चलें कि किसानों का आंदोलन लगातार जारी है। पिछले लगभग 150 से अधिक दिनों से किसान दिल्ली बॉर्डर पर बैठे हुए हैं। सरकार के साथ 11 दौर की वार्ता के बाद भी दोनों पक्ष के बीच कोई फैसला नहीं हो पाया। जिसके बाद से सरकार और किसानों के बीच डेडलॉक जारी है। दोनों ही पक्षों के बीच अंतिम बार वार्ता 22 जनवरी को हुई थी। इधर रेप के आरोप लगने के बाद आंदोलनकारियों पर सवाल खड़े होने लगे हैं।