किसान आंदोलन से डरा बीसीसीआई? मोहाली में नहीं होगा IPL 2021 का एक भी मैच

मोहाली आईपीएल फ्रैंचाइजी पंजाब किंग्स (पहले किंग्स इलेवन पंजाब) का होम ग्राउंड है। यहां पर इससे पहले सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के मैच भी आयोजित नहीं किए गए थे।

IPL 2021, IPL 2021 venue, Mohali

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 14वें सीजन का आयोजन अप्रैल-मई में हो सकता है। आईपीएल गवर्निंग काउंसिल मैदान को लेकर माथापच्ची कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, बीसीसीआई अहमदाबाद, दिल्ली, कोलकाता, चेन्नई और बेंगलुरु में मैचों का आयोजन करा सकता है। कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम को मेजबानी मिलनी मुश्किल है। वहीं, मोहाली के पंजाब क्रिकेट एसोसिएशन स्टेडियम को भी मेजबानी नहीं मिलने वाली है।

मोहाली को मेजबानी से दूर रखने के पीछे किसान आंदोलन माना जा रहा है। बीसीसीआई को इस बात का डर है कि मैचों के दौरान स्टेडियम में या उसके आसपास किसान प्रदर्शन कर सकते हैं। यह एक जोखिम भरा काम होगा। इससे दुनिया भर की मीडिया में उन्हें स्थान मिल सकता है। मोहाली आईपीएल फ्रैंचाइजी पंजाब किंग्स (पहले किंग्स इलेवन पंजाब) का होम ग्राउंड है। यहां पर इससे पहले सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी के मैच भी आयोजित नहीं किए गए थे।

इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए बीसीसीआी के एक पदाधिकारी ने कहा, ‘‘हम ऐसी परिस्थिति नहीं बनने देना चाहते हैं कि मोहाली में मैच हो रहा हो और किसान स्टेडियम की ओर आंदोलन करते हुए बढ़े। यह दुनिया भर के मीडिया का ध्यान आकर्षित करेगा। हम ऐसी स्थिति उत्पन्न नहीं करना चाहते हैं। मौजूदा परिस्थितियों को देखते हुए मोहाली को मैचों के आयोजन के लिए शॉर्टलिस्ट नहीं किया गया है। पंजाब के अलावा कई राज्यों में चुनाव हैं। चुनाव भी कई बदलावों के लिए हमें मजबूर कर सकता है।’’

इससे पहले पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट कर बीसीसीआई को अपने फैसले पर पुनर्विचार करने की अपील की थी। उन्होंने कहा था, ‘‘आईपीएल के आगामी सत्र के स्थलों में मोहाली क्रिकेट स्टेडियम को जगह नहीं मिलने से हैरान हूं। मैं बीसीसीआई और आईपीएल से अपील करता हूं कि अपने फैसले पर पुनर्विचार करें। ऐसा कोई कारण नहीं कि मोहाली आईपीएल की मेजबानी नहीं कर सकता और हमारी सरकार कोविड-19 के खिलाफ सुरक्षा के लिए सभी जरूरी इंतजाम करेगी।’’

मंगलवार को पंजाब किंग्स ने बीसीसीआई को ईमेल कर इस बारे में सफाई मांगी थी। पंजाब किंग्स के सह-मालिक नेस वाडिया ने कहा था वह इस बात को लेकर निराश हैं कि कोरोना संक्रमितों की कम संख्या होने के बाद भी मोहाली को शॉर्टलिस्ट नहीं किया गया है। वाडिया ने कहा था, ‘‘हमने बीसीसीआई से पूछा है कि आखिर हमें क्यों बाहर किया गया। हम इसका कारण जानना चाहते हैं। हमने इस बारे में और स्पष्टीकरण मांगा है कि आखिर इस तरह का निर्णय किस प्रक्रिया के तहत लिया गया। कई और टीमों ने भी सवाल उठाए हैं।’’