कृषि कानूनः BJP ने तो अंग्रेजों को भी पछाड़ दिया- महापंचायत में बोले CM केजरीवाल, टिकैत के आंसुओं पर कही ये बात

मेरठ के किसान महापंचायत में अरविन्द केजरीवाल ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि आज अपने देश का किसान बहुत ज्यादा पीड़ा में है। किसान भाई परिवार समेत 95 दिनों से कड़कती ठंड में दिल्ली के बॉर्डर पर धरने पर बैठा है।

arvind kejirwal , merrut , kisan mahapanchayat

उत्तरप्रदेश के मेरठ में आयोजित किसान महापंचायत में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। महापंचायत में केजरीवाल ने भाजपा राज की तुलना अंग्रेजी हुकूमत से करते हुए कहा कि बीजेपी ने तो अंग्रेजों को भी पछाड़ दिया। इसके अलावा उन्होंने कहा कि आज मोदी सरकार हमारे किसानों पर देशद्रोह के मुक़दमे चला रही है, इतनी तो हिम्मत अंग्रेजों ने भी नहीं की थी।

मेरठ के किसान महापंचायत में अरविन्द केजरीवाल ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि आज अपने देश का किसान बहुत ज्यादा पीड़ा में है। किसान भाई परिवार समेत 95 दिनों से कड़कती ठंड में दिल्ली के बॉर्डर पर धरने पर बैठा है। 250 से ज्यादा किसान भाइयों की शहादत हो चुकी है। लेकिन सरकार के सिर पर जूं नहीं रेंग रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि किसानों पर लाठियां बरसाई जा रही है, कीलें ठोकी जा रही है। अंग्रेज़ो ने भी हमारे किसानों पर इतने जुल्म नहीं किए थे पर भाजपा ने तो अंग्रेज़ो को भी पीछे छोड़ दिया। अब ये हमारे किसानों पर झूठे मुकदमे कर रहे है।   

इसके अलावा अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि आज मोदी सरकार हमारे किसानों पर देशद्रोह का मुकदमा चला रही है, इतनी हिम्मत तो अंग्रेज़ो ने नहीं की थी। इस दौरान उन्होंने राकेश टिकैत के आंसुओं का जिक्र करते हुए कहा कि उनका रोना मुझसे देखा नहीं गया। साथ ही उन्होंने कहा कि लालकिला हिंसा की साजिश भी भाजपा के लोगों ने ही रची थी। किसानों को जान बुझ कर गलत रास्ते बताए गए। यहाँ तक कि लाल किला पर झंडा फहराने वाले लोग भी भाजपा के ही थे। आगे केजरीवाल ने कहा कि हमारे देश के किसान कुछ भी हो सकते हैं लेकिन देशद्रोही नहीं हो सकता है। 

केजरीवाल ने मेरठ की किसान महापंचायत में कहा कि ये तीनों कृषि कानून किसानों के लिए डेथ वारंट की तरह हैं। सरकार इन कानूनों के माध्यम से किसानों की जमीन हड़प कर देश के तीन चार पूंजीपतियों को देना चाहती है। इन कानूनों के आने के बाद किसान अपने ही खेतों में मजदूर बनकर रह जायेंगे। आगे केजरीवाल ने कहा कि भाजपा कहती है कि MSP नहीं दी जा सकती क्योंकि इसमें 17 लाख करोड़ का खर्च आएगा। किसान आपसे MSP फ्री में नहीं मांग रहा बल्कि किसान अपनी फसल देगा। सरकार उस फसल को बेच कर पैसा तो कमाएगी। केंद्र सरकार चाहे तो 23 की 23 फसलें MSP पर उठा सकती है।

केंद्र सरकार के अलावा केजरीवाल ने योगी आदित्यनाथ पर भी हमला बोला। केजरीवाल ने कहा कि केंद्र सरकार के मंत्री घूम कर कह रहे है कि MSP था, MSP है, MSP रहेगा। मैं योगी जी से पूछना चाहता हूँ कि पश्चिम उत्तर प्रदेश की एक मंडी दिखा दो जहाँ MSP पर धान उठती हो। मैं योगी से पूछना चाहता हूँ कि आपकी क्या मजबूरी है जो पूरी सरकार चीनी मिल मालिकों के आगे घुटने टेक कर बैठी है। अगर तुम किसानों को चीनी मिल मालिकों से उनके पैसे नहीं दिला सकते तो तुम्हारी सरकार पर धिक्कार है।