केंद्र ने भेजे 1000 वेंटिलेटर, 2 घंटे में काम करना बंद, राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री का आरोप

बढ़ते कोरोना मामलों के बाद सोमवार को राजस्थान सरकार ने बाहर से आने वाले लोगों के लिए राज्य में प्रवेश करने पर आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया था।

Corona, Covid-19, Rajasthan

भारत में कोरोना के दूसरे लहर का प्रकोप तेजी से बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को जारी आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 1,26,789 नए मामले सामने आए हैं। इधर कई राज्यों में वैक्सीन और वेंटिलेटर की कमी भी देखने को मिल रही है। वहीं राजस्थान सरकार ने केंद्र पर आरोप लगाया है कि केंद्र ने जो 1000 वेंटिलेटर भेजे थे वो 2 घंटे में ही खराब हो गए।

राजस्थान के चिकित्सा और स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा ने कहा है कि केंद्र सरकार ने हमें 1000 वेंटिलेटर भेजे। लेकिन वेंटिलेटर ने 2-2.5 घंटे में काम करना बंद कर दिया। मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक में वेंटिलेटर का मुद्दा सामने आया और हमें सरकार को इस मुद्दे से अवगत कराने को कहा गया। जिसके बाद हमने अवगत कराया।इसमें कोई राजनीति नहीं है। बताते चलें कि राजस्थान में भी कोरोना तेजी से फैल रहा है।

बढ़ते कोरोना मामलों के बाद सोमवार को राजस्थान सरकार ने बाहर से आने वाले लोगों के लिए राज्य में प्रवेश करने पर आरटी-पीसीआर टेस्ट अनिवार्य कर दिया था। राजस्थान में अप्रैल के शुरुआती दिनों में कोरोना के जो आंकड़े सामने आएं है वो चितां बढ़ाने वाली है।

मुंबई में वैक्सीन की किल्लत: महाराष्ट्र में कई जगहों पर कोविड वैक्सीन के शॉटेज की समस्या देखने को मिल रही है। खबरों के अनुसार कुछ स्थानों पर मात्र तीन दिनों का स्टॉक बचा हुआ है। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने केंद्र सरकार से मदद की अपील की थी। उन्होंने कहा था कि इस समस्या को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेन्स के माध्यम से बात हुई थी।

मध्यप्रदेश में वीकेंड लॉकडाउन: कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए मध्यप्रदेश के शहरी इलाकों में शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन लगाने का फैसला लिया गया है। मध्यप्रदेश में पिछले 24 घंटों में 4 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए हैं। बताते चलें कि देश भर में पिछले 24 घंटे में कोरोना से 685 लोगों की मौत हुई है। भारत में पहली लहर में कभी भी मामले एक लाख से ऊपर नहीं पहुंचे थे।