कोरोनाः अगस्त से सितंबर के बीच आ सकती है तीसरी लहर- महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने जताई आशंका

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने कहा है कि अगस्त से सितंबर के बीच कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है। उन्होंने यह दावा प्रदेश सरकार की ओर से गठित तास्क फोर्स के विशेषज्ञों से बातचीत के आधार पर किया है। 

corona, covid

पूरा देश कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से जूझ रहा है। पिछले 24 घंटों में 4 लाख से अधिक मामले सामने आए हैं। इस बीच महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री ने आशंका जताया कि अगस्त से सितंबर के बीच कोरोना की तीसरी लहर भी आ सकती है। उन्होंने यह दावा प्रदेश सरकार की ओर से गठित तास्क फोर्स के विशेषज्ञों से बातचीत के आधार पर किया है।

बताते चलें कि गुरुवार को सीएम उद्धव ठाकरे ने भी कोरोना के हालात पर बैठक की थी। बैठक में उन्होंने तीसरी लहर के लिए तैयार रहने के लिए कहा था। महाराष्ट्र में दैनिक संक्रमणों में कमी दिखाई देने लगी है। ऐसे में नई लहर का अंदेशा चिंता की बात है। गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि घटती संख्या के मद्देनजर उम्मीद है कि मई तक कोरोना का ग्राफ फ्लैट हो जाएगा। लेकिन एक्सपर्ट की राय है कि कोरोना वाइरस जुलाई-अगस्त में एक बार फिर हमला कर सकता है। सरकार का प्रयास है कि राज्य में इसके पहले ही हालात से निपटने के पुख्ता इंतजाम कर लिए जाएं।

इस बीच मुंबई की मेयर किशोरी पेंडनेकर ने जनता को आगाह किया है कि वे वैक्सीनेशन सेंटरों पर भीड़ न लगाएं। उन्होंने कहा कि ये सेंटर बने तो वैक्सीन के लिए हैं लेकिन बेकाबू भीड़ के चलते ये ठिकाने सुपरस्प्रेडर प्वाइंट भी बन सकते हैं। इसी खतरे के चलते अब सीधे बिना पंजीकरण के वॉक-इन वैक्सीनेशन सुविधा बंद करने का ऐलान किया है।

अब मोबाइल पर पंजीकरण के बाद ही वैक्सीन लगवाई जा सकेगी। प्रशासन ने कहा है कि इस काम के लिए उसने एनजीओ से मदद के लिए कहा है। बताते चलें कि भारत में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के एक दिन में अब तक के सर्वाधिक चार लाख से अधिक नए मामले सामने आए हैं और उपचाराधीन मामलों की संख्या अब 32 लाख के पार हो गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार सुबह आठ बजे अद्यतन किए गए आंकड़ों के अनुसार, कोरोना वायरस संक्रमण के 4,01,993 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,91,64,969 हो गई तथा 3,523 और लोगों की मौत होने के बाद कुल मृतक संख्या बढ़कर 2,11,853 हो गई।