कोरोनाः गुरु तेग बहादुर के 400वें प्रकाश पर्व पर गुरुद्वारा पहुंचे PM, लोग बोले- जब नेता ही धर्मस्थल जा रहे हैं, तो बाकियों से घर पर रहने की उम्मीद कैसे करें

गुरु तेगबहादुर के 400वें प्रकाश पर्व के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार की सुबह गुरुदावारा सीसगंज साहिब में मत्था टेका। गुरुद्वारे में प्रधानमंत्री का पारंपरिक स्वागत किया गया लेकिन सोशल मीडिया ने इस पर बहुत खुशी नहीं जताई। एक ट्विटर हैंडिल ने तो तुरंत याद दिलाया कि दिल्ली में चालू लॉकडाउन के नियमों […]

Narendra Modi, BJP, NDA

गुरु तेगबहादुर के 400वें प्रकाश पर्व के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार की सुबह गुरुदावारा सीसगंज साहिब में मत्था टेका। गुरुद्वारे में प्रधानमंत्री का पारंपरिक स्वागत किया गया लेकिन सोशल मीडिया ने इस पर बहुत खुशी नहीं जताई। एक ट्विटर हैंडिल ने तो तुरंत याद दिलाया कि दिल्ली में चालू लॉकडाउन के नियमों के मुताबिक कोई व्यक्ति किसी धार्मिक स्थल नहीं जा सकता। धर्मस्थल, अलबत्ता खुला रह सकता है। प्रधानमंत्री ने गुरुद्वारा आने के लिए सिक्योरिटी रूट का इस्तेमाल नहीं किया। भीतर भी सुरक्षा का विशेष प्रबंध नहीं था।

सोशल मीडिया में पीएम की इस गुरुद्वारा विज़िट पर बड़ी तीखी टिप्पणियां हुई हैं। सलोनी का ट्वीट सीधे समाचार देने वाली न्यूज़ एजेंसी को ही संबोधित हैः पहले यह कवरेज कर लो। यह बताओ कि गुरुद्वारे के रास्ते में प्रधानमंत्री किसी अस्पताल से गुजरे या नहीं जहां सड़क किनारे खड़ी कारों में लोग दाखिले का इंतजार कर रहे थे। यह देख कर उनका हृदय विचलित हुआ या नहीं।

इस ट्वीट का अंतिम लाइन हैः मैंने सही सवाल पूछा है न?

सदुगुरु बतोलेबाज़ का ट्वीट तंज भरा हैः वे सिक्योरिटी रूट और कपड़ों के बिना भी यात्रा कर सकते हैं लेकिन कैमरे के बिना नहीं। अमिताभ चच्चन लिखते हैं कि जब लॉकडाउन ही लगा है तो सिक्योरिटी आदि की क्या जरूरत। वैभव ने अपने ट्वीट में लाकडाउन का नियम ही लिख डाला है कि बंदी के दौरान धार्मिक स्थल खुल सकते हैं लेकिन वहां कोई व्यक्ति जा नहीं सकता। यह लिखने के साथ ही ट्वीट में एक समाचार का लिंक दे दिया गया है, जिसमें विस्तार से बताया गया है कि लॉकडाउन के दौरान क्या कर सकते हैं और क्या नहीं। चिराग गर्ग की टिप्पणी भी इसी बात पर है कि जब नेता ही नियम तोड़कर पूजा स्थलों पर जा रहे हैं तो जनता से घर के अंदर बैठने की उम्मीद कैसे की जा सकती है।

सुंदर की ट्वीट गुरुद्वारा विज़िट को पंजाब में 2022 में होने जा रहे चुनाव से जोड़ती है। लिखा हैः गुडबाइ बंगाल, तमिलनाडु, असम। अब फोकस पंजाब पर। बहुत सी ट्वीट समर्थकों ने भी की हैं, जिनका लब्बोलुबाब यही कि लोगों को कहने दें, मोदी जी आप देश हित में लगे रहिए। वैसे, ट्वीट्स करने वालों में से कई ने बात बार-बार कही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अस्पतालों के अंदर जाकर हालात समझने चाहिए कि देश किस कदर परेशान है।