कोरोनाः स्मृति के संसदीय क्षेत्र के गांव में 1 माह में 20 की मौत, एक-एक घर से निकले तीन-तीन शव

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के लोकसभा क्षेत्र अमेठी के हारीमऊ गांव में बीते 1 महीने में सिर्फ बुखार और सर्दी की वजह से 20 लोगों की मौत हो गई है।

corona, UP, Amethi

कोरोना के बेकाबू होते संक्रमण की वजह से उत्तरप्रदेश के गांवों में भी अब मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी में भी दहशत का माहौल है। बीते 1 महीने में अमेठी के हारीमऊ गांव में करीब 20 लोगों की मौत हो चुकी है। गांव में स्थिति यह है कि एक एक घर से करीब 3-3 लाशें निकल चुकी है। हालांकि ग्रामीणों को अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि आखिर इतनी मौतें किस वजह से हो रही है। 

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के लोकसभा क्षेत्र अमेठी के हारीमऊ गांव में बीते 1 महीने में सिर्फ बुखार और सर्दी की वजह से 20 लोगों की मौत हो गई है। ग्रामीणों के अनुसार अभी से पहले इस तरह से कभी भी इतनी बड़ी संख्या में मौतें नहीं हुई थी। हालांकि ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग के स्थानीय अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए कहा कि गांव में ना तो लोगों का टेस्ट किया जा रहा है और ना ही सैनिटाइज किया जा रहा है। लगातार हो रही मौतों की वजह से ग्रामीणों में इतनी दहशत है कि लोग अपने घर से बाहर भी नहीं निकल रहे हैं। 

हारीमऊ गांव के ग्राम प्रधान ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा है कि पिछले दिनों गांव का एक व्यक्ति दिल्ली से वापिस अपने घर आया था। वह बीमार था और बाद में उसकी मौत हो गई। इसके बाद से ही गांव में मौतों का सिलसिला जारी है। बड़ी संख्या में लोगों की मौत होने के बावजूद आला अधिकारियों ने अभी तक इस मामले में कोई संज्ञान नहीं लिया है। आलम यह है कि इस गांव में एम्बुलेंस तो आती है लेकिन मरीजों को लेकर नहीं जाती है।

हालांकि अमेठी सीएमओ आशुतोष दुबे ने बताया कि पूरे गांव में सेनेटाइजेशन कराया गया है। इसके अलावा लक्षण वाले व्यक्तियों की पहचान उनको जरूरी दवाएं दी जा रही है और कोरोना जांच भी किया जा रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि गांव में 14 लोगों की मौत उम्र के चलते हुई जबकि एक की मौत कोरोना संक्रमण के कारण हुई है।

बता दें कि पिछले 24 घंटे में उत्तरप्रदेश से कोरोना संक्रमण के 12,547 नए मामले सामने आए। जबकि 281 लोगों की मौत इस महामारी की वजह से हो गई। हालांकि 28,404 लोगों को अस्पताल से डिस्चार्ज भी किया गया। राज्य में अभी भी 1,77,643 एक्टिव मामले हैं। सरकार ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए 24 मई तक लॉकडाउन लगा दिया है।