कोरोना और लॉकडाउन के बीच भाजपा शासित PMC का फैसला, मुफ्त में ऑनलाइन योग कराएंगे रामदेव

कार्यक्रम मुख्यतः होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए ही बनाया गया है। सेशन दो बार चलेगा। सुबह 5 से 8 और शाम को 5 से 6 तक। एक सत्र शाम 6 से साढ़े सात तक चलेगा जिसमें पुणे के आम नागरिक योग और आयुर्वेद के विशेषज्ञों से फोन पर सलाह ले सकेंगे।

Baba Ramdev,Jeans,Patanjali

पुणे के निवासियों को शारीरिक और मानसिक फिटनेस प्रदान करने के लिए बाबा रामदेव योग और आयुर्वेद की ऑनलाइन ट्रेनिंग देंगे। इस बाबत बाबा और पुणे नगर निगम के बीच एक करार हुआ है।

पुणे के मेयर मुरलीधर मोहोल ने कहा कि कोविड महामारी के चलते शहर मे स्थिति चिंताजनक है। यह आवश्यक है कि योग के जरिए मानसिक स्वास्थ्य फिर से हासिल किया जाए। मेयर ने कहा कि कोरोना के 80 प्रतिशत मरीज होम आइसोलेशन में हैं। बाबा रामदेव के ऑनलाइन सेशन इन लोगों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बहुत लाभ पहुंचाएंगे। मरीज फिट रहने के अलावा दिमागी तौर पर पॉजिटिव रहेंगे और उनके अंदर का भय भी निकल जाएगा।

कार्यक्रम का ऑनलाइन उद्घाटन गुरुवार को हुआ था, जिसे बाबा रामदेव ने भी संबोधित किया था। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि सकारात्मकता की जरूरत कोरोनो के रोगियों के साथ तीमारदार, घर वालों को भी भी है। योग ऐसी विद्या है जिसके जरिए दिमागी मजबूती हासिल की जा सकती है। बाबा ने कहा कि वे पुणे की जनता की सेवा का मौका पाकर खुद को भाग्यशाली मान रहे हैं।

कार्यक्रम मुख्यतः होम आइसोलेशन वाले मरीजों के लिए ही बनाया गया है। सेशन दो बार चलेगा। सुबह 5 से 8 और शाम को 5 से 6 तक। एक सत्र शाम 6 से साढ़े सात तक चलेगा जिसमें पुणे के आम नागरिक योग और आयुर्वेद के विशेषज्ञों से फोन पर सलाह ले सकेंगे।

बाबा रामदेव ने इस बीच एक ट्वीट में तीसरी लहर के बारे में चेतावनी दी है और कहा है कि यह छोटे बच्चों के लिए खतरनाक हो सकती है। बाबा ने कहा है कि पहली लहर में कोरोना वाइरस ने ज्यादातर बुजुर्गों को अपना निशाना बनाया था तो दूसरी लहर ने 25 से 45 आयुवर्ग के लोगों को। अब अगली लहर बच्चों के लिए खतरनाक बताई जा रही है। इस लहर की चर्चा वैज्ञानिक भी कर रहे हैं। एक बड़े वैज्ञानिक ने तो यहां तक कहा है कि यह लहर अनिवार्य है पर यह नहीं कहा जा सकता कि यह कब और कहां आएगी। उन्होंने कहा कि चूंकि बच्चों के लिए वैक्सीन नहीं है तो उनको योग का सहारा लेना होगा।

वैसे, कोरोना की इस दूसरी लहर के दौरान बाबा रामदेव ने अमूमन लो प्रोफाइल बना रखा है। टीवी पर अब वे पहले जितना नहीं दिखते। पिछली बार उन्होंने कोरोना की दवाओं का ऐलान किया था तब उनको काफी सुनना पड़ा था।