कोरोना काल में महंगाई से त्रस्त जनता पर सरकार ने पेट्रोल-डीजल से की बड़ी कमाई, आयकर से भी ज्यादा कलेक्शन

2019-20 की तुलना में 2020-21 में पेट्रोल-डीजल के टैक्स से सरकार को 25 फीसदी का मुनाफा हुआ है, जबकि इस दौरान महंगाई और लॉकडाउन आदि की वजह से पेट्रोल-डीजल की बिक्री कम हुई है।

पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। (एक्सप्रेस फोटो)।

पिछले डेढ़ साल में हर कोई कोविड और ठप पड़े कामकाज से बुरी तरह परेशान है। एक तरफ बीमारी ने कई परिवारों के लिए मौत का झोंका लेकर आया तो दूसरी तरफ नौकरियों के जाने और व्यापार ठप पड़ने से लोगों के सामने जीविका का संकट खड़ा हो गया। इन सबके बावजूद केंद्र सरकार के पास इनकम टैक्स के जरिए पहुंचने वाले पैसों से कहीं ज्यादा पैसे पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों और ईंधन करों (Fuel Taxes) से पहुंच गए।

आंकड़ों के मुताबिक पिछले वित्त वर्ष (2020-21) में सरकार के पास इनकम टैक्स के रूप 4.69 लाख करोड़ रुपए पहुंचे, जबकि ईंधन (पेट्रोल-डीजल) पर उत्पाद शुल्क (Excise Duty) और मूल्य वर्धित कर यानी वैट (VAT) से 5.25 लाख करोड़ रुपए आए। यह हाल तब है जबकि महंगाई और लॉकडाउन आदि की वजह से पेट्रोल-डीजल की बिक्री कम हुई है। वर्ष 2019-20 की तुलना में वर्ष 2020-21 में पेट्रोल-डीजल की खपत 10.5 फीसदी कम रही। इसी तरह 2019-20 की तुलना में 2020-21 में पेट्रोल-डीजल के टैक्स से सरकार को 25 फीसदी का मुनाफा हुआ है। इस बीच कंपनियों ने सरकार को 4.57 लाख करोड़ रुपए कॉरपोरेट टैक्स दिया। पेट्रोल-डीजल पर केंद्र सरकार उत्पाद शुल्क (Excise Duty) लेती है, जबकि राज्य वैट वसूलते हैं। साथ ही कुछ अन्य शुल्क और टैक्स भी अदा किए जाते है।

सरकार ने छह मई 2020 को पेट्रोल-डीजल पर उत्पाद शुल्क (Excise Duty) बढ़ा दी थी। इसकी वजह से एक दिन में ही पेट्रोल पर 10 रुपए और डीजल में 13 रुपए की बढ़ोतरी हुई थी। इस दौरान अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतें काफी कम होकर माइनस में चल रही थीं।

इस बीच सोमवार को स्थिर रहने के बाद मंगलवार को तेल कंपनियों ने पेट्रोल-डीजल की कीमतों में फिर बढ़ोतरी कर दी। इससे पेट्रोल-डीजल की कीमतें अपने उच्चतम स्तर पर पहुंच गई हैं। मंगलवार 22 जून को पेट्रोल का भाव 28 पैसे प्रति लीटर बढ़ गया, वहीं, डीजल के रेट में भी 26 पैसे की बढ़ोतरी हुई। तेल कीमतों में हुए इस इजाफे के बाद दिल्ली के बाजार में पेट्रोल की कीमत बढ़कर 97.50 रुपए प्रति लीटर हो गई, जबकि डीजल का भाव भी बढ़कर 88.23 रुपए प्रति लीटर हो गया है।

एक महीने में पेट्रोल 7.18 रुपए महंगा हुआ है। चार मई से अब तक तेल की कीमतें तेज रफ्तार से बढ़ी हैं। इन 29 दिनों में पेट्रोल की कीमत 7.18 रुपए प्रति लीटर बढ़ गई। वहीं इन दिनों में डीजल 7.45 रुपए महंगा हो गया।