कोरोना का म्युटेशन B.1.621 वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट घोषित, वैक्सीन का असर कम होने का खतरा

भारत के B.1.617 वेरिएंट वायरस की संक्रमण क्षमता बहुत ज्यादा है. (AP)

कोरोना का B.1.617 वैरिएंट पहली बार भारत में पिछले साल दिसंबर में पाया गया था. यह वेरिएंट वायरस के ओरिजिनल वेरिएंट की तुलना में अधिक आसानी से फैल रहा है. वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट का मतलब है कि इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न के रूप में क्लासिफाइड करने से पहले इसकी प्रकृति और संक्रामकता शक्ति की निगरानी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

जिनेवा. कोरोना वायरस महामारी (Covid-19) को खत्म करने के लिए भारत समेत दुनियाभर में वैक्सीनेशन (Covid-19 Vaccination) का काम जारी है. इस बीच कोरोना वायरस के नए म्युटेशन B.1.621 को लेकर बड़ी जानकारी सामने आई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) कोरोना वायरस के नए वेरिएंट B.1.621 को मॉनिटर कर रहा है. WHO ने इसे वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट घोषित किया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि इस नए वेरिएंट से कोरोना वैक्सीन का असर कम होने का खतरा है. वेरिएंट ऑफ इंट्रेस्ट का मतलब है कि इसे वेरिएंट ऑफ कंसर्न के रूप में क्लासिफाइड करने से पहले इसकी प्रकृति और संक्रामकता शक्ति की निगरानी होगी.

पिछले दिनों डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि कोरोना का B.1.617 वैरिएंट पहली बार भारत में पिछले साल दिसंबर में पाया गया था. यह वेरिएंट वायरस के ओरिजिनल वेरिएंट की तुलना में अधिक आसानी से फैल रहा है. कोरोना पर काम कर रही डब्ल्यूएचओ की वैज्ञानिक मारिया वान केरकोव ने कहा था कि कोरोना का B.1.617 वेरिएंट का संक्रमण तेजी से फैल रहा है, इसकी जानकारी उपलब्ध हैं. डब्ल्यूएचओ के अनुसार भारत के B.1.617 वेरिएंट वायरस की संक्रमण क्षमता बहुत ज्यादा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन