कोरोना के बीच हांफ रहा हेल्थ सिस्टम! इंजेक्शन को चुकाए डेढ़ लाख, नीतीश के गृह जिले में 16 हजार रुपए चुका कूड़े वाले ठेले से लाश पहुंचाई श्मशान

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह क्षेत्र होने के कारण हमेशा चर्चाओं में रहने वाला नालंदा भी खराब स्वास्थ्य सेवा से जूझ रहा है। मरीज की मौत हो जाने के बाद एंबुलेंस उपलब्ध नहीं करवाया गया।

Corona, Covid-19, Bihar

बिहार में कोरोना से हाहाकार है, दवा, ऑक्सीजन, बेड की कमी से लोगों की मौत हो रही है। मौत के बाद श्मशान तक शवों को पहुंचाने के लिए भी एंबुलेंस की व्यवस्था नहीं रहने के कारण कूड़े वाले ठेले का प्रयोग किया जा रहा है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के गृह जिले नालंदा में 16 हजार रुपये देकर एक शव को कूड़े वाले ठेले से अंतिम संस्कार के लिए लेकर जाया गया।

पटना एम्स की हालत भी काफी खराब है। मरीज के परिजन अगर व्यवस्था कर के दवा और इंजेक्शन का जुगाड़ कर ले रहे हैं  फिर भी समय पर मरीजों को दवा उपलब्ध नहीं हो रह है। दैनिक भाष्कर की खबर के अनुसार एक महिला की हालत बिगड़ने के बाद 2 मई को टोसिलिजुमैब इंजेक्शन डॉक्टरों की तरफ से लिखा गया जिसे उसके बेटे ने बाहर से 1.50 लाख रुपये में खरीदी। डॉक्टरों की तरफ से कहा गया कि दोबारा इंजेक्शन अस्पताल से ही उपलब्ध हो जाएगा। लेकिन तीन दिन तक नहीं मरीज को इंजेक्शन नहीं दिया गया,  मरीज की मौत हो गयी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का गृह क्षेत्र होने के कारण हमेशा चर्चाओं में रहने वाला नालंदा भी खराब स्वास्थ्य सेवा से जूझ रहा है। मरीज की मौत हो जाने के बाद एंबुलेंस उपलब्ध नहीं करवाया गया। वार्ड पार्षद ने मृतक के परिवार से 16,500 रुपये लेकर शव को कूड़े ढ़ोने वाले ठेले पर लादकर श्मशान घाट तक भेज दिया।

बताते चलें कि भारत में कोविड-19 के 2,81,386 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 2,49,65,463 हो गई। पिछले 27 दिन में एक दिन में सामने आए ये सबसे कम नए मामले हैं। वहीं, संक्रमण से 4,106 लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 2,74,390 हो गई। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सोमवार की सुबह आठ बजे जारी किए गए अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, देश में अभी 35,16,997 लोगों का कोरोना वायरस संक्रमण का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 14.09 प्रतिशत है।

आंकड़ों के अनुसार, देश में संक्रमण से कुल 2,11,74,076 लोग उबर चुके हैं और मरीजों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर 84.81 प्रतिशत है। वहीं, कोविड-19 से मृत्यु दर 1.10 प्रतिशत है। देश में पिछले साल सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख से अधिक हो गई थी।