कोरोना पर PM की मीटिंग: सूबों को सलाह- सही आंकड़ा दें, लड़ाई में आशा-आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को उतारें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में देश में कोविड-19 की वर्तमान स्थिति और टीकाकरण अभियान की समीक्षा की।

PM Modi's Aunt, Dypty CM of UP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को एक उच्चस्तरीय बैठक में देश में कोविड-19 की वर्तमान स्थिति और टीकाकरण अभियान की समीक्षा की। सरकारी सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस बैठक में विभिन्न मंत्रालयों के शीर्ष अधिकारियों ने हिस्सा लिया। कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच देशभर में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर मोदी लगातार बैठकें कर रहे हैं और स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश भी जारी कर रहे हैं। सूत्रों ने जानकारी दी कि इस मीटिंग में पीएम मोदी ने राज्यों को सलाह दी है कि वे कोरोना महामारी से जुड़ा सही आंकड़ा दें। यही नहीं स्थानीय स्तर पर कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आशा-आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को भी उतारा जाए।

प्रधानमंत्री ने इससे पहले एक कार्यक्रम में कहा था कि कोरोना वायरस महामारी अब देश के ग्रामीण इलाकों में तेजी से पांव पसार रही है। इसके मद्देनजर उन्होंने लोगों से मास्क पहनने और उचित दूरी का पालन करने सहित बचाव के उपायों का अनुसरण करने का आग्रह किया था। कोविड-19 महामारी को एक ‘‘अदृश्य दुश्मन’’ करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि सरकार इस महामारी की दूसरी लहर से मुकाबले के लिए युद्धस्तर पर काम कर रही है।

उन्होंने भरोसा जताया कि देश इस लड़ाई में विजय हासिल करेगा। ज्ञात हो कि शनिवार को देश में एक दिन में 3,26,098 लोगों में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि होने के बाद कोविड-19 के मामले बढ़कर 2,43,72,907 हो गए हैं, जबकि 3,890 और मरीजों की मौत होने के बाद मृतक संख्या बढ़कर 2,66,207 हो गई है।

आंकड़ों के मुताबिक, बीमारी से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या 2,04,32,898 हो गई है जबकि संक्रमण से मृत्यु दर 1.09 प्रतिशत दर्ज की गई है।

इस बीच पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर देश में कोविड-19 रोधी दवाओं का उत्पादन बढ़ाने संबंधी कुछ कदमों का सुझाव दिया।

पार्टी के अधिकारियों ने यहां बताया कि आजाद ने अपने पत्र में कोविड-19 महामारी के मद्देनजर स्वास्थ्य बुनियादी ढांचा और मजबूत करने के लिए भी सुझाव दिए। इस पत्र की एक प्रति केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन को भी भेजी गई है।

कांग्रेस के अधिकारियों ने बताया कि पूर्व राज्यसभा सदस्य ने देश में टीका लगाने वालों की संख्या बढ़ाने की भी सिफारिश की। साथ ही उन्होंने देश में महामारी से निपटने के लिए टीकों की और अधिक आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए भी सुझाव दिए।