कोरोना मृतकों की संख्या इतनी कि जानवरों के श्मशान में हो रहा शवदाह

दक्षिणी निगम ने पहली बार द्वारका सेक्टर 29 में कुत्तों के लिए श्मशान घाट बनाया था लेकिन अब वही घाट मानव के अंतिम संस्कार के लिए बनकर तैयार है। यहां 50 मचान बनाए जा रहे हैं।

corona, uttarpradesh, yogi adityanath

दिल्ली में कोरोना से हो रही मौत का आंकड़ा दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। दिल्ली सरकार जहां मौत के आंकड़े 300 से 400 के बीच बता रही है वहीं दिल्ली नगर निगम का आंकड़ा 700 के पार हो गया है। दिल्ली के श्मशान घाट में लाशों की लंबी कतारें लग रही है। परिजनों को शवदाह के लिए छह से 10 घंटे तक इंतजार करना पड़ रहा है।

हालात यहां तक पहुंच चुका है कि अब जानवरों के श्मशान घाट में इंसानों का अंतिम संस्कार होना शुरू हो गया है। दक्षिण दिल्ली नगर निगम ने द्वारका सेक्टर-29 में कुत्तों के शमशान घाट का प्रयोग इंसानों के अंतिम संस्तार के लिए किया जा रहा है। हालांकि इस त्रासदी पर उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश कहते हैं कि सीएनजी घाट में शव जलाने पर इंतजार जरूर करना पड़ता है कारण यहां एक को जलने के बाद उसकी अस्थियां निकालने के बाद दूसरे शव डाले जाते हैं इसीलिए यह देरी हो रही है। जबकि दक्षिण दिल्ली के महापौर अनामिका सिंह का कहना है कि कोरोना महामारी पहली बार आई है लिहाजा इस समय निगम अपनी ओर से कोशिश तो कर रही है लेकिन कहीं-कहीं शव जलाने में इंतजार जरूर करना पड़ रहा है।

राजधानी दिल्ली में नगर निगम के दावे से इतर श्मशान घाटों पर अंतिम संस्कार के लिए शवों की लंबी कतारें लगनी शुरू हो गयी है। प्रतिदिन मरने वालो की जहां संख्या बढ़ रही है वहीं पुलिस के भरोसे लाशे छोड़ लोग घरों में बंद हो रहे है। कोरोना से मौत के बाद सम्बन्ध के मायने किनारे हो रहे है। लोग तमाम फर्ज भूलकर शवों को लावारिश छोड़ अपनी जान बचा रहे है।

दक्षिणी निगम ने पहली बार द्वारका सेक्टर 29 में कुत्तों के लिए श्मशान घाट बनाया था लेकिन अब वही घाट मानव के अंतिम संस्कार के लिए बनकर तैयार है। यहां 50 मचान बनाए जा रहे हैं जिससे शवों की लंबी लाइनें कम हो सके और जहां आनन-फानन में कोविड शव को जलाकर अंतिम संस्कार कर दिया जाए। इस बारे में दक्षिणी दिल्ली की महापौर अनामिका का कहना है कि कोरोना जैसी महामारी में कई प्रकार के संकट सामने आए है।

इस हालात में शवों को जलाने के लिए शमशान घाट बनाने में भी निगम दिन रात प्रयासरत है। जहां तक द्वारका सेक्टर-29 में बने कुत्तो के शमसान घाट परिसर में मानव के लिए प्लेटफार्म बनाने की बात है तो यहां के खाली पड़े जमीन पर संकट को देखते हुए ऐसा किया जा रहा है। महापौर अनामिका ने बताया कि दिल्ली में कोरोना संक्रमण के कारण मौतों की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। बुधवार को सबसे अधिक दक्षिणी निगम के श्मशान घाटों पर 329 मृतकों का अंतिम संस्कार किया गया। श्मशान घाटों पर लगातार शव आ रहे हैं जिसके लिए निगम ने अतिरिक्त व्यवस्था किया है।