कौन कह रहा है आंदोलन खत्म होगा? राकेश टिकैत बोले- 2024 तक चलेगा हमारा आंदोलन, पूरा प्लान भी बताया

इस पर राकेश टिकैत ने साफ करते हुए कहा कि इस देश में लुटेरे घुस गए हैं जिन्हें भगाना जरूरी है। राकेश टिकैत ने ये भी कहा कि कौन कहता है कि आंदोलन खत्म हो गया?

Rakesh Tikait, BKU, National News

पिछले 92 दिनों से अधिक समय से देशभर से आए किसान दिल्ली से सटे सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। ऐसे में राकेश टिकैत ने बताया कि अब किसानों का मूड क्या है। किसान आंदोलन की दशा और दिशा क्या है? इस पर राकेश टिकैत ने साफ करते हुए कहा कि इस देश में लुटेरे घुस गए हैं जिन्हें भगाना जरूरी है। राकेश टिकैत ने ये भी कहा कि कौन कहता है कि आंदोलन खत्म हो गया?

राकेश टिकैत ने कहा-‘हम पूरे देश में जाएंगे, हम भी ये बताएंगे कि सरकार न बात कर रही न कोई भाव दे रही। राकेश टिकैत ने कहा कि अगर जरूरत पड़ी तो हम 10-12 साल तक जेल जाने के लिए भी तैयार हैं। इतने मुकद्दमें लग जाएंगे तो कौन बचेगा? ऐसे ही जो किसी को थोड़ा सा भी हाथ लग गया तो उस पर 307 की धारा लग रही है।’

राकेश टिकैत आगे बोले- ‘कई लोगों को नोटिस भी मिल रहे हैं। ये सब चल रहा है। आंदोलन खत्म कहां हुआ है? किसने कहा आंदोलन खत्म हुआ? 2024 तक ये चलेगा। फिर ये सरकार हट जाएगी। सरकारों को अपना काम करना चाहिए। जो लुटेरी कंपनीज आ रही हैं…ये वो हैं लुटेरे, लुटेरे आ गए हैं देश में। इन लुटेरों को भगाना पड़ेगा।’

इससे पहले राकेश टिकैत ने कहा था- देश के सारे किसान इस लड़ाई में हमारे साथ शामिल हैं। लड़ाई राजस्थान से ही लड़ी जाएगी। यहां के लोग गर्मी में भी लड़ाई लड़ना जानते हैं। इस दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि अबकी बार लालकिले के बजाय संसद पर किसानों के ट्रैक्टर पहुंचेंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि लालकिले में हमारे लोगों को फंसाने का काम किया गया। सरकार ने सरदार बिरादरी को बर्बाद करने का काम किया।

राकेश टिकैत इससे पहले भी इस सवाल पर अपना जवाब दे चुके हैं कि अगर सरकार न मानी तो आप आगे क्या करेंगे? राकेश टिकैत बोले थे- यहीं (गाजीपुर बॉर्डर पर प्रदर्शन स्थल) रहेंगे। आजतक की अंजना ओम कश्यप ने इंटरव्यू में पूछा था कि वे 18 माह इसे टालने पर राजी हैं, पर आप लोग तैयार नहीं हैं?

टिकैत ने इस पर कहा था- 18 महीने बाद फिर आएगा। बीमारी जहां आए, वहीं काट दो। अगर किसी को कैंसर हो जाए, तो उसे खत्म करेंगे या फिर 18 महीने के लिए रोकेंगे?