क्या ई-आधार भी आधार कार्ड की तरह वेलिड है, जानिए क्या कहता है UIDAI

यूआईडीएआई द्वारा विभिन्न सेवाएं भी प्रदान की जाती हैं और आधार कार्डधारक इसकी आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से अपना नाम, पता, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर और फोटो अपडेट कर सकते हैं।

आधार कार्ड की तरह ही ई-आधार का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। (फोटो-UIDAI)।

नया घर खरीदना हो, कार खरीदनी हो, हायर एजुकेशन के लिए अप्लाई करना हो या नया सिम कार्ड लेना हो, आधार कार्ड सभी भारतीय नागरिकों के लिए सबसे अहम दस्तावेजों में से एक है। सरकार की ओर से भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) द्वारा जारी किया गया 12 अंकों का आधार नंबर पहचान का प्रमाण है। विभिन्न सेवाओं और सरकारी योजनाओं का लाभ उठाने के लिए आधार कार्डधारकों को अपना आधार कार्ड अपडेट रखना होता है।

यूआईडीएआई द्वारा विभिन्न सेवाएं भी प्रदान की जाती हैं और आधार कार्डधारक इसकी आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से अपना नाम, पता, जन्म तिथि, मोबाइल नंबर और फोटो अपडेट कर सकते हैं। बीते कुछ वक्त में अधिकतर सुविधाओं ने डिजिटल रूप ले लिया है। ठीक ये बात आधार कार्ड के मामले में भी लागू होती है। आधार कार्ड आज ई-आधार के रूप में उपलब्ध है। जिसका इस्तेमाल आसानी से किया जा सकता है।

क्या ई-आधार आधार कार्ड की तरह वेलिड है?
इसका जवाब है, हां। आधार कार्ड की तरह ही आप ई-आधार का इस्तेमाल कर सकते हैं। इस बात की पुष्टि खुद UIDAI करता है।

जानिए क्या है ई-आधार?
ई-आधार का मतलब इलेक्ट्रोनिक आधार है, जो पासवर्ड की सुरक्षा के साथ आता है। इसे यूजर फोन में या फिर अन्य किसी डिवाइस में सेव करके रख सकते हैं। इसे मुफ्त में UIDAI वेबसाइट से डाउनलोड किया जा सकता है। यह ठीक पेपर आधार कार्ड की तरह ही होता है लेकिन डिजिटल रूप में।

बता दें कि यूआईडीएआई ने आधार कार्ड के बड़े पेपर प्रिंट जारी करने की सेवा को बंद कर दिया है और अब केवल पॉलीविनाइल क्लोराइड (पीवीसी) कार्ड जारी करेगा। इसका मतलब यह है कि अगर आपने अपना आधार कार्ड खो दिया है या आप उसे अपडेट करना चाहते हैं, तो आप आधार पीवीसी कार्ड को दोबारा प्रिंट करने के बजाय डाउनलोड कर सकते हैं।

आधार कार्ड धारक अब पीवीसी कार्ड ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं या ई-आधार का प्रिंटआउट खुद ले सकते हैं। सेवा को बंद कर दिया गया है क्योंकि यूआईडीएआई को लगता है कि नया डेबिट-आकार का आईडी-प्रूफ अधिक प्रभावी और पोर्टेबल है।

पीवीसी कार्ड न केवल वॉलेट में ले जाने में आसान होते हैं बल्कि क्यूआर कोड, घोस्ट इमेज, होलोग्राम, माइक्रो टेक्स्ट और गिलोच पैटर्न जैसे विभिन्न लाभ और सुरक्षा सुविधाएं भी प्रदान करते हैं। यूआईडीएआई के नियमों के मुताबिक, आधार कार्ड का पीवीसी वर्जन डाउनलोड करने के लिए आपको 50 रुपये (जीएसटी और स्पीड पोस्ट चार्ज सहित) देने होंगे।

साथ ही यूआईडीएआई ने उस सुविधा को बंद कर दिया है जो नागरिकों को एड्रेस वैलिडेशन लेटर की मदद से आधार कार्ड में अपना पता अपडेट करने की अनुमति देती है। अगली अधिसूचना तक सेवा को निलंबित कर दिया गया है और यूआईडीएआई की वेबसाइट से ये विकल्प हटा दिया गया है। यह उन लोगों के लिए समस्या पैदा कर सकता है जो अपने आधार कार्ड पर अपना पता अपडेट करना चाहते हैं और विशेष रूप से उन लोगों के लिए जो किराए के मकान में रहते हैं।

एड्रेस अपडेट करने के लिए अब आपको दूसरे एड्रेस प्रूफ की आवश्यकता होगी। आपके पास किसी अन्य एड्रेस प्रूफ की मदद से यूआईडीएआई वेबसाइट पर जाकर अपने आधार कार्ड को ऑनलाइन अपडेट करने का विकल्प भी है।