क्या कन्हैया कुमार की कैंपस शैली वाली राजनीति से बिहार कांग्रेस को मिल पाएगा फायदा?

कन्हैया के पास मजबूत पार्टी नहीं थी, वहीं बिहार कांग्रेस के पास मजबूत नेता नहीं था। ऐसे में हो सकता है कि पार्टी और कन्हैया मिलकर एक-दूसरे को मजबूती दें।

Kanhaiya Kumar कन्हैया कुमार सितंबर में दिल्ली में कांग्रेस में शामिल हुए थे। (Illustration-Suvajit Dey)

संतोष सिंह, अरण्या शंकर

बिहार के पटना स्थित कांग्रेस का ऑफिस सदाकत आश्रम एक बार फिर चर्चा में है। पार्टी का ये ऑफिस ज्यादातर सुनसान ही रहता है, लेकिन कन्हैया कुमार के कांग्रेस में शामिल होने के बाद ऐसा लग रहा है कि यहां फिर से चहल-पहल दिखाई देगी।

हालांकि अब कांग्रेस पार्टी की कार्रवाई बीर चंद पटेल पथ पर होती है। ये वही जगह है, जहां पर बीजेपी, जेडीयू और आरजेडी के कार्यालय हैं।

कन्हैया कुमार सितंबर में दिल्ली में कांग्रेस में शामिल हुए थे। वह उस वक्त चर्चा में आए थे, जब फरवरी 2016 के देशद्रोह मामले में उनकी गिरफ्तारी हुई थी। वह जेएनयू छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष रहे हैं। कांग्रेस में शामिल होने पर उन्होंने कहा था कि अगर कांग्रेस नहीं होगी तो देश नहीं होगा।

कांग्रेस में आने से पहले कन्हैया कुमार वामपंथी राजनीति करते थे, लेकिन एक वामपंथी नेता का कांग्रेस में शामिल होना निश्चित ही एक बदलाव है। खासतौर पर तब जब एक शख्स की राजनीति भाजपा और कांग्रेस पर हमला करने के इर्द-गिर्द घूमती रही है।

2015 के जेएनयू छात्र संघ की अध्यक्षीय बहस के दौरान, कन्हैया ने कहा था कि बर्बाद हिंदुस्तान करने के लिए एक कांग्रेस ही काफी थी। हर राज्य में बीजेपी बैठी है, बर्बाद ए गुलिस्तां क्या होगा।

कन्हैया ने स्नातक स्तर की पढ़ाई के लिए 2004 में पटना में कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आर्ट्स एंड साइंस में शामिल होने से पहले, बरौनी, बेगूसराय में आर के सी हाईस्कूल में पढ़ाई की थी। नालंदा मुक्त विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद, कन्हैया दिल्ली चले गए और बाद में 2011 में सेंटर फॉर अफ्रीकन स्टडीज में एमफिल के लिए जेएनयू में शामिल हो गए। 2019 में, उन्होंने अपनी थीसिस के साथ पीएचडी पूरी की।

हालांकि, जेएनयू में कन्हैया के पुराने दोस्त कांग्रेस ज्वाइन करने की बात को समझते दिखाई देते हैं। एक छात्रावास के साथी और कन्हैया के दोस्त कहते हैं कि कन्हैया महत्वाकांक्षी हैं, और उनकी क्षमता का व्यक्ति महत्वाकांक्षी होना चाहिए। कन्हैया के सबसे करीबी दोस्तों और छात्रावास के साथियों में से एक अंशुल त्रिवेदी 28 सितंबर को उनके साथ कांग्रेस में शामिल हुए थे। त्रिवेदी अपने फैसले के बारे में बताते हुए कहते हैं, लगभग 200 सीटों पर, केवल कांग्रेस ही भाजपा के विरोध में है। कांग्रेस को मजबूत किए बिना इस जनविरोधी शासन को कभी नहीं गिराया जा सकता।

कन्हैया कुमार के पास कांग्रेस ज्वाइन करना ही एक मात्र विकल्प बचा था क्योंकि भाजपा का वह विरोध करते आए हैं और जेडीयू और आरजेडी एक उच्च जाति के नेता को पेश नहीं करेंगे। वहीं भाकपा में वह अधिक प्रगति नहीं देख रहे थे।

कन्हैया के पास मजबूत पार्टी नहीं थी, वहीं बिहार कांग्रेस के पास मजबूत नेता नहीं था। कांग्रेस पार्टी, जो 1990 में राज्य में आखिरी बार सत्ता में थी, के पास एक ऐसा नेता नहीं है जो इसे तीन दशकों की राजनीतिक अपंगता से आगे उठा सके।

यहीं पर कन्हैया कुमार फिट बैठते हैं। उन्हें एक ऐसे व्यक्ति के रूप में देखा जाता है जो एक प्रतिद्वंद्वी नेता की आंखों में आंख डालकर जवाब दे सकता है। केंद्र के सीएए और एनआरसी के विरोध के चरम पर, यह कन्हैया ही थे, जिन्होंने भाजपा को निशाने पर लिया था। उन्होंने सीमांचल क्षेत्र (अररिया, पूर्णिया, कटिहार और किशनगंज) में रैलियों की एक श्रृंखला शुरू की थी, जिसमें भारी भीड़ थी। उनकी पूर्णिया रैली ने लगभग एक लाख लोगों को आकर्षित किया था। कन्हैया की रैलियों ने बीजेपी को बैकफुट पर धकेल दिया था।

हालांकि 2019 में बेगूसराय लोकसभा के चुनाव में भाजपा के गिरिराज सिंह से वह हार गए थे, जिसका जिक्र कांग्रेस नेता भी गुपचुप तरीके से करते रहते हैं। कांग्रेस के भीतर जो लोग उनके शामिल होने के आलोचक हैं, वे आश्चर्य करते हैं कि कोई व्यक्ति जो अपनी सीट नहीं जीत सका, पार्टी को कैसे उत्साहित करता है।

बिहार युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और एआईसीसी सदस्य ललन कुमार कहते हैं कि कन्हैया का स्वागत है, लेकिन कई युवा कांग्रेस नेताओं का क्या जो लंबे समय से पंखों में इंतजार कर रहे हैं? कन्हैया ने एक भी चुनाव नहीं जीता है। कांग्रेस नेता के रूप में, क्या वह भीड़ को उसी तरह आकर्षित करना जारी रखेंगे जैसे उन्होंने एक भाकपा नेता के रूप में किया था?

वहीं अब जब कन्हैया कांग्रेस में शामिल हो गए हैं, तो उनके लिए एक बड़ी चुनौती पार्टी के दिग्गजों से निपटने की होगी।