ख़ुदा मिलेगा तो शिकायत करूंगा कि धर्मेंद्र जैसा चेहरा क्यों नहीं दिया; ‘ही-मैन’ को देखते ही बोल पड़े थे दिलीप कुमार

दिलीप कुमार और धर्मेंद्र एक-दूसरे के अच्छे दोस्त थे। धर्मेंद्र ने दिलीप कुमार की फिल्म देखने के बाद ही एक्टर बनने का फैसला किया था। आगे हुए था कुछ ऐसा।

Dharmendra Dilip Kumar दिलीप कुमार और धर्मेंद्र (Photo- Indian Express)

बॉलीवुड में कई दिग्गज कलाकार हुए हैं, लेकिन दिलीप कुमार को कई एक्टर अपना आइडल मानते हैं। धर्मेंद्र भी ऐसे ही कलाकार हैं जिन्होंने दिलीप कुमार की शहीद फिल्म देखकर ही फिल्म इंडस्ट्री में आने का फैसला किया था। दोनों की मुलाकात बिल्कुल भी ऐसी नहीं हुई थी। धर्मेंद्र का स्टाइल और एक्टिंग से दिलीप कुमार काफी प्रभावित थे और एक बार तो उन्होंने धर्मेंद्र जैसा चेहरा नहीं होने का अफसोस जता दिया था।

‘आजतक’ से बात करते हुए धर्मेंद्र ने इसका जिक्र किया था। धर्मेंद्र ने बताया था, ‘दिलीप साहब मेरे बहुत करीबी थे। मैं अक्सर उनके घर पार्टियों में जाया करता था और वो भी मुझे बहुत प्यार करते थे। एक बार तो पार्टी में उन्होंने कह दिया था- ख़ुदा मिलेगा तो शिकायत करूंगा कि धर्मेंद्र जैसा चेहरा क्यों नहीं दिया? ये तो उनका बड़प्पन है नहीं तो शहीद जैसी फिल्में देखकर तो मैंने एक्टर बनने का फैसला किया। मैं पहले उनका नाम राम सोचता था।’

धर्मेंद्र आगे कहते हैं, ‘फिल्म इंडस्ट्री में लोग मुझे बहुत प्यार करते हैं। यहां तक इंडस्ट्री के बाहर भी लोग मुझे बहुत पसंद करते हैं। लोगों ने इतना प्यार दिया। मैं हमेशा सोचता हूं कि मैं दुनिया में सिर्फ देने के लिए पैदा हुआ हूं। मेरे शुरू से ही ऐसा स्वभाव है और ये मेरा पूरा विश्वास है कि इसके बदले में आपको वापस भी मिलता है। पहले फिल्म इंडस्ट्री में काफी ठहराव था। आज के युवाओं के पास इतना समय नहीं है। वह जल्दबाजी में काम करना चाहते हैं।’

जब धर्मेंद्र पर चीख पड़े थे दिलीप कुमार: धर्मेंद्र अपनी मां से जिद करके मुंबई आए थे। लेकिन उन्हें काम नहीं मिला था। वह बहुत पहले से दिलीप कुमार के फैन थे तो उन्होंने सोचा क्यों न वापस लौटने से पहले एक बार दिलीप कुमार मिल लिया जाए। फिर क्या था वह दिलीप कुमार से मिलने के लिए उनके घर पर पहुंच गए और बेडरूम में घुस गए। अंदर दिलीप कुमार सो रहे थे और वह धर्मेंद्र को देखते ही एक दम चीख पड़े थे। इससे धर्मेंद्र बहुत डर गए थे और वापस भागे थे। करीब पांच साल बाद वह वापस मुंबई लौटे थे और बतौर एक्टर फिल्मों में आए थे।