खाने के तरीके से ही दिखता है ये कितने जानवर हैं- तालिबान पर बिफरे फिल्ममेकर, बोले- US ने गिफ्ट में दे दिए सब हथियार

सोशल मीडिया पर तालिबानियों का एक और वीडियो सामने आया है जिसमें सारे तालिबानी अफगानिस्तान प्रेजिडेंशियल पेलेस में जाहिलों की तरह बैठे नजर आ रहे हैं

Ram Gopal Varma, Taliban Take Over Presidential palace, Afganistan, Ram Gopal Varma, US President Joe Biden, अफगानिस्तान में छाया तालिबान का आतंक, प्रेजिडेंशियल पेलेस में तालिबानियों का कब्जा (फोटो सोर्स- वायरल वीडियो)

अफगानिस्तान में तालिबान के कब्जे के बाद विचलित कर देने वाली तस्वीरें और वीडियोज सामने आ रहे हैं। वहीं सोशल मीडिया पर तालिबानियों का एक और वीडियो सामने आया है जिसमें सारे उग्रवादी अफगानिस्तान प्रेजिडेंशियल पेलेस में जाहिलों की तरह बैठे नजर आ रहे हैं। वीडियो में कोई आलीशान सोफों पर ढेरों तालीबानी बैठे नजर आ रहे हैं कोई जमीन पर बैठे खाना खा रहा है तो कोई मेज पर पड़े खाने पर टूट पड़ता दिखता है। इस वीडियो को फिल्म मेकर राम गोपाल वर्मा ने भी शेयर किया।

वीडियो शेयर कर राम गोपाल वर्मा ने लिखा- ‘आप देख सकते हैं, किस तरह के जानवर हैं तालिबानी। प्रेजिडेंशियल पेलेस में इनका खाना खाने का तरीका तो देखिए।’ एक अन्य ट्वीट में राम गोपाल वर्मा ने कहा- ’20 साल और ट्रिलियन डॉलर खर्च के बाद, बिडेन ने एक चीज अचीव की, तालिबान को सैन्य हथियारों का एक बड़ा जखीरा देकर।

अफगानिस्तान में अमेरिकी का एक्शन लेना सिनेमा के उस नायक की तरह है जो पीड़ितों को बचाने के लिए इंटरवल में धमाकेदार एंट्री लेता है और फिर क्लाइमेक्स में उत्पीड़ितों का कत्लेआम करने के लिए उन्हें प्री क्लाइमेक्स में छोड़ देता है..अविश्वसनीय।

बिडेन ने दावा किया है कि ”तालिबानियों के हथियार काफी पुराने हैं, वे भी लगभग 70,000 पुराने जमाने के गुंडों की तरह हैं। अफगान सैनिक उच्च अमेरिकी प्रशिक्षित 3,50,000 सैनिक थे जिनके पास अमेरिकी आपूर्ति वाले आधुनिक हथियार थे और अब यहां 4,20,000 तालिबानी गुंडों का झुंड हैं जो अमेरिकी प्रशिक्षण और हथियारों से लैस हैं।’

बता दें, इस वक्त अफगानिस्तान के हालात काफी खराब हैं। इस बीच अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी ने भी टेलीविजन के माध्यम से राष्ट्र को संबोधित किया। अशरफ गनी ने कहा कि वह पिछले 20 सालों की अफगानिस्तान की उपलब्धियों को ऐसे ही नहीं छोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि वो देश की स्थिति पर स्थानीय नेताओं और अंतरराष्ट्रीय भागीदारों के साथ विचार-विमर्श कर रहे हैं। ताकि आगे होने वाले विनाशक युद्ध को और हत्याओं को रोका जा सके।