गहलोत के मंत्री के बयान पर बवाल- कहा ब्राह्मणों ने बुद्धि का ठेका ले रखा है क्या, विवाद बढ़ा तो बोले- मजाक कर रहा था

वायरल वीडियो में राजस्थान सरकार में शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कह रहे हैं कि मैं ब्राह्मणों से कहता हूं कि अगर तुमने बुद्धि का ठेका ले रखा है तो कोटा के कोचिंग इंस्टीट्यूट का जो रिजल्ट आता है उनमें 100 में से 70 बनिया कैसे आता है?

राजस्थान सरकार में शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल ने एक कार्यक्रम को संबोधित करने के दौरान ब्राह्मणों को लेकर विवादित बयान दे डाला। विवाद बढ़ने पर उन्होंने अपनी सफाई भी पेश की। (फोटो – एएनआई)

राजस्थान की गहलोत सरकार में मंत्री शांति धारीवाल के एक वायरल वीडियो पर बवाल मचा हुआ है। वायरल वीडियो में मंत्री शांति धारीवाल ब्राह्मणों पर विवादित टिप्पणी करते हुए कह रहे हैं कि क्या ब्राह्मणों ने बुद्धि का ठेका ले रखा है। ब्राह्मण समाज को लेकर विवादित बयान देने की वजह से विवाद बढ़ने पर मंत्री शांति धारीवाल ने सफाई पेश करते हुए कहा है कि वो मजाक कर रहे थे।

दरअसल वायरल वीडियो में राजस्थान सरकार में शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए दिखाई दे रहे हैं। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए वे कह रहे हैं कि मैं ब्राह्मणों से कहता हूं कि अगर तुमने बुद्धि का ठेका ले रखा है तो मेरे यहां कोटा के कोचिंग इंस्टीट्यूट जो पूरे देश भर में प्रसिद्ध हैं। उनका जो रिजल्ट आता है उनमें 100 में से 70 बनिया कैसे आता है? तुम लोग कैसे पीछे रह जाते हो? उनके पास इसका कोई जवाब नहीं है। 

आगे उन्होंने कहा कि कोटा के इंस्टीट्यूट का जब रिजल्ट आता है तो उसमें जिंदल मिलेगा, जैन मिलेगा या अग्रवाल मिलेगा। इन कोचिंग संस्थानों के 70 फीसदी संचालक भी महाजन ही हैं। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान के सचिवालय में भी आपको बनिया ही अधिकांश पदों पर नजर आएंगे।

ब्राह्मण समाज को लेकर की गई इस टिप्पणी पर राजस्थान में विवाद शुरू हो गया। ब्राह्मण समाज के कई संगठनों ने शांति धारीवाल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। साथ ही कई संगठनों ने उनके आवास के आवास के बाहर भी धरना दिया और शांति धारीवाल से माफ़ी मांगने की भी मांग की। 

विवाद बढ़ने के बाद शहरी विकास मंत्री शांति धारीवाल ने अपने बयान को लेकर सफाई दी। शांति धारीवाल ने कहा कि मैंने किसी को ठेस पहुंचाने के मकसद से यह बात नहीं कही थी। यह सिर्फ दो दोस्तों के बीच मजाक था। कोटा के रहने वाले मेरे एक मित्र ने जब मुझसे कहा कि इस बार आईआईटी में खूब ब्राह्मण आए हैं तो तब मैंने भी उनसे कहा कि ब्राम्हणों ने बुद्धि का ठेका थोड़ी ले रखा है। इस बार बनिए भी खूब आए हैं।