गांधी के ‘लेफ्टिनेंट’ के तौर पर जाने जाते थे थम्बी नायडू, पोते का दावा- द.अफ्रीका में बापू से अधिक बार गए थे जेल

दक्षिण अफ्रीका : गांधी के करीबी सहयोगी के रंगभेद विरोधी अभियान को समर्पित किताब का विमोचन

Mahatma Gandhi, Father of the Nation

दक्षिण अफ्रीका में महात्मा गांधी के करीबी सहयोगी थम्बी नायडू और उनके परिवार की चार पीढ़ियों के सन् 1900 की शुरुआत से ही रंगभेद के खिलाफ चलाए अभियान के बारे में जानकारी देती एक किताब का यहां विमोचन किया गया।

‘थम्बी नायडू एंड फैमिली : स्ट्रगल फॉर ए नॉन रेसियल साउथ अफ्रीका’ नाम की किताब में रंगभेद मुक्त दक्षिण अफ्रीका के लिए संघर्ष की नायडू परिवार की चार पीढ़ियों की कहानी को संजोया गया है। नायडू को अकसर गांधी का ‘लेफ्टिनेंट’ भी कहा जाता है।

नायडू के पोते प्रेमा नायडू ने किताब के विमोचन के बाद ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, ‘‘दक्षिण अफ्रीका में अहिंसक प्रतिरोध आंदोलन के दिनों में मेरे दादा महात्मा गांधी से अधिक बार जेल गए।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे दादा ही उस समय भेदभावपूर्ण कानूनों के खिलाफ गांधी की अगुवाई वाले आंदोलन में कामकाजी वर्ग को साथ लेकर आए थे। यहां तक कि गांधी ने खुद बाद में थम्बी नायडू को दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह अभियान के इतिहास में सबसे महत्वपूर्ण शख्सियत में से एक माना था।’’

उन्होंने बताया कि वर्ष 1889 में मॉरिशस से 14 साल की उम्र में दक्षिण अफ्रीका आए नायडू ने अपने पूरे परिवार में दमनकारी भेदभाव का विरोध करने का जुनून पैदा किया। प्रेमा ने याद किया कि कैसे पूरे परिवार ने नेल्सन मंडेला और कई अन्य की मदद की थी।

थंबी नायडू के वंशज दक्षिण अफ्रीकी रिजर्व बैंक के डिप्टी गवर्नर: महात्मा गांधी के विश्वस्त सहयोगी रहे थंबी नायडू के वंशज प्रेमा के बेटे कुबेन नायडू 2016 में दक्षिण अफ्रीकी रिजर्व बैंक ने रजिस्ट्रार ऑफ बैंक्स नियुक्त किए गए थे। वे फिलहाल केंद्रीय बैंक के डिप्टी गवर्नर हैं। 2013 में दक्षिण अफ्रीकी रिजर्व बैंक के तत्कालीन गवर्नर गिल मारकस का सलाहकार बनने के बाद से कुबेन नायडू बैंक के तीन डिप्टी गवर्नरों में से एक के रूप में सेवाएं दे रहे हैं। वह बैंक की मुद्रा नीति समिति के सदस्य भी हैं जो देश में नियमित रूप से ब्याज दरों का निर्धारण करती है। ब्रिटिश कोषागार में दो साल तक सेवाएं देने के अतिरिक्त कुबेन दक्षिण अफ्रीका विकास बैंक में भी काम कर चुके हैं।