गुजरात में नई सरकार: कई बड़े भाजपा नेताओं ने कैमरे पर साधी चुप्‍पी, न‍ित‍िन पटेल बोले- मीड‍िया ने बताया था नाराज

राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने 10 कैबिनेट मंत्रियों और 14 राज्य मंत्रियों को शपथ दिलाई, जिनमें पांच स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री शामिल हैं।

गुजरात में आज नई सरकार के मंत्रियों का शपथ ग्रहण हुआ। (एक्सप्रेस फोटो)।

गुजरात विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष राजेंद्र त्रिवेदी और भाजपा की प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष जीतू वघानी समेत 24 मंत्रियों ने बृहस्पतिवार को गाँधी नगर में गुजरात सरकार के मंत्रियों के तौर पर शपथ ग्रहण की। पूर्व मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के नेतृत्व वाले पूर्ववर्ती मंत्रिमंडल के किसी मंत्री को नए मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने 10 कैबिनेट मंत्रियों और 14 राज्य मंत्रियों को शपथ दिलाई, जिनमें पांच स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री शामिल हैं। सरकार में बदलाव पर भाजपा नेता नितिन पटेल ने कहा कि उनकी नाराजगी जैसी कोई बात नहीं है। उन्होंने कहा कि मेरी नाराजगी की खबर मीडिया की बनाई हुई है। वहीं पार्टी के एक सांसद ने मंत्रिमंडल में फेरबदल के सवाल पर कैमरे के आगे हाथ जोड़े और चलते बने। साथ ही नए मंत्रियों ने भी इस मुद्दे पर चुप्पी साधे रखी।

बता दें कि राज्य के 17वें मुख्यमंत्री के रूप में सोमवार को शपथ ग्रहण करने वाले भूपेंद्र पटेल राजभवन में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान रूपाणी के साथ मौजूद थे। रूपाणी के शनिवार को पद से अचानक इस्तीफा देने के बाद नए मंत्रिमंडल का गठन किया गया है।

कैबिनेट मंत्रियों के रूप में राजेंद्र त्रिवेदी, जीतू वघानी, ऋषिकेश पटेल, पूर्णेश मोदी, राघवजी पटेल, कनुभाई देसाई, किरीट सिंह राणा, नरेश पटेल, प्रदीप परमार और अर्जुन सिंह चौहान ने शपथ ली।

यह शपथग्रहण समारोह ऐसे वक्त में हुआ है, जब राज्य में विधानसभा चुनावों के लिए करीब एक साल ही रह गया है। मंत्रिमंडल में पुराने चेहरों को शामिल नहीं करने के भाजपा के फॉर्मूले को जारी रखते हुए इस बार भी नए लोगों को मंत्रिमंडल में जगह दी गयी है।

इससे पहले सत्तारूढ़ भाजपा ने घोषणा की थी कि शपथग्रहण समारोह बुधवार दोपहर को आयोजित किया जाएगा और इसके लिए राज्य की राजधानी में स्थित राजभवन में तैयारियां शुरू कर दी गई थीं, लेकिन कार्यक्रम में अचानक तब्दीली कर दी गई और शपथग्रहण समारोह के बैनर हटा लिए गए। न तो भाजपा और न ही राज्य सरकार ने कार्यक्रम टाले जाने के संबंध में कोई कारण बताया।

मुख्यमंत्री कार्यालय ने बुधवार शाम घोषणा की कि नये मंत्रियों का शपथग्रहण समारोह गांधीनगर स्थित राज भवन में बृहस्पतिवार दोपहर डेढ़ बजे होगा। अहमदाबाद से पहली बार विधायक चुने गए, पटेल (59) ने पिछले शनिवार को विजय रूपाणी के अचानक इस्तीफा दे देने के बाद सोमवार को गुजरात के नये मुख्यमंत्री का प्रभार संभाला।

कई लोगों का मानना है कि पुराने चेहरों को जगह न दिया जाने का यह फार्मूला 2022 विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रस्तावित किया गया है क्योंकि दो दशक से ज्यादा वक्त से गुजरात में सत्ता में रही भाजपा साफ-सुथरी छवि के साथ मतदाताओं के बीच जाना चाहती है।