गोडसे जिंदाबाद कहने वाले देश को शर्मसार कर रहे- वरुण गांधी ने की ट्रोल्स की खिंचाई

महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के समर्थन में ट्रेंड चलाने वाले लोगों पर वरुण गांधी ने नाराज़गी जाहिर करते हुए कहा है कि लोग ऐसा करके देश को शर्मसार कर रहे हैं।

varun gandhi, mahatma gandhi, nathuram godse वरुण गांधी ने गोडसे जिंदाबाद के ट्रेंड पर नाराजगी जाहिर की है (Photo-File)

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जन्मदिवस के मौके पर सोशल मीडिया पर ‘गोडसे जिंदाबाद’ का ट्रेंड चल पड़ा है जिस पर भाजपा सांसद वरुण गांधी ने आपत्ति जताई है। महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के समर्थन में ट्रेंड चलाने वाले लोगों पर उन्होंने नाराज़गी जाहिर करते हुए कहा है कि लोग ऐसा करके देश को शर्मसार कर रहे हैं।

वरुण गांधी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए एक ट्वीट में लिखा, ‘भारत हमेशा से आध्यात्मिक महाशक्ति रहा है। लेकिन ये महात्मा (महात्मा गांधी) ही हैं जिन्होंने हमारे राष्ट्र के आध्यात्मिक आधार को अपने अस्तित्व के माध्यम से बताया और हमें एक नैतिक अधिकार दिया जो आज भी हमारी सबसे बड़ी शक्ति है। गोडसे जिंदाबाद का ट्वीट करने हमारे राष्ट्र को गैर जिम्मेदाराना तरीके से शर्मसार कर रहे हैं।’

सोशल मीडिया पर कई और लोग भी गोडसे जिंदाबाद के ट्रेंड की कड़ी आलोचना कर रहे हैं। भारतीय व्यवसायी और सामाजिक कार्यकर्ता तहसीन पूनावाला ने ट्वीट किया, ‘जो लोग भी गोडसे जिंदाबाद का ट्वीट कर रहे हैं वो भारत के माननीय प्रधानमंत्री के समर्थक हैं। इसलिए नरेंद्र मोदी की यह नैतिक ज़िम्मेदारी बनती है कि गांधी जयंती के अवसर पर इस तरह से ट्रेंड से अपने समर्थकों को रोकें। क्या हमारे प्रधानमंत्री 2 अक्टूबर को वो करेंगे जो सही है या बापू के बारे में बस दो शब्द बोलकर चुप रह जाएंगे?’

कांग्रेस नेता श्रीनिवास बी वी ने ट्वीट किया, ‘एक हिंदुस्तानी होने के नाते आज शर्मिंदा हूं! गोडसेवादी सरकार के राज में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर सत्ताधारी पार्टी की शह में भारत के पहले आतंकवादी नाथूराम गोडसे जिंदाबाद का नारा लगाया जा रहा है। प्रधानमंत्री जी बंद कीजिए अब ये, मुंह पर गांधी, दिल में गोडसे।’

पत्रकार अजीत अंजुम के साक्षी जोशी का एक ट्वीट रीट्वीट किया जिसमें उन्होंने ऐसे लोगों पर प्रधानमंत्री से कार्रवाई की बात की है। अजीत अंजुम ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘कार्रवाई कैसे करेंगे? सारे ट्वीटर हैंडल चेक करो तो ज्यादातर इनके ही चंगू-मंगू और पाले हुए ट्रोल निकलेंगे। बाकी जो बचेंगे वो भी वैचारिक तौर पर एक ही कुल गोत्र के होंगे। प्रज्ञा ठाकुर को तो मन से आज तक माफ नहीं किया वैसे ही ‘दिखावटी मन’ से माफ नहीं करेंगे इससे ज्यादा नहीं।’

बता दें, नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी। 30 जनवरी 1948 के दिन गांधी प्रार्थना सभा के लिए जा रहे थे और तभी गोडसे ने उन पर गोली चला दी। इसके लिए नाथूराम गोडसे को फांसी की सजा दी गई थी।