गोरखपुर में योगी आदित्य नाथ ने किया रुद्राभिषेक, पंडित बोले- इससे खत्म होगा कोरोना

प्रधान पुरोहित ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी महामारी से लड़ने के लिए भौतिक और आध्यात्मिक दोनों ही प्रयास कर रहे हैं।

Corona, covid-19, Yogi Adityanath

देश में जारी कोरोना संकट से हर कोई जूझ रहा है। इधर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को गोरखपुर में कोविड संकट से मुक्ति के लिए रुद्राभिषेक किया। सीएम योगी ने गोरखनाथ मंदिर में महामारी के विनाश और जनकल्याण के संकल्प के साथ एक घंटे तक पूजा की। मुख्यमंत्री को रुद्राभिषेक करवाने वाले पंडित ने कहा कि इससे कोरोना संकट खत्म होगा।

मुख्यमंत्री ने इस अनुष्ठान के दौरान भगवान शिव का वैदिक मंत्रोच्चार किया और 11 लीटर दूध और पांच लीटर जल जिसे कुशोदक कहते हैं भगवान को अर्पित किया। सीएम ने रुद्राभिषेक की शुरुआत भगवान गणेश की पूजा के साथ की। रुद्राभिषेक को मंदिर के प्रधान पुरोहित रमानुज त्रिपाठी के नेतृत्व में संपन्न करवाया गया। साथ ही तीन अन्य पुरोहितों ने उन्हें सहयोग किया। प्रधान पुरोहित ने बताया कि रुद्र का अर्थ ही दुखों का शमन करने वाला होता है।

ऐसे में कोरोना महामारी पर अंकुश लगाने में यह रुद्राभिषेक बेहद लाभकारी साबित होगा। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी महामारी से लड़ने के लिए भौतिक और आध्यात्मिक दोनों ही प्रयास कर रहे हैं।

बताते चलें कि योगी आदित्यनाथ गोरखपुर में कोरोना संकट का जायजा लेने पहुंचे हैं। सोमवार को उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि संक्रमितों की पहचान, टेस्ट और ट्रीटमेंट अभियान के व्यापक परिणाम सामने आए हैं। पिछले 10 दिनों में कोरोना के एक्टिव मामलों में 85 हजार से अधिक की कमी आयी है।

गौरतलब है कि देश में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के मंगलवार को सुबह आठ बजे तक अद्यतन किए गए आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 3,29,942 नए मामले सामने आए तथा 3,876 और लोगों की मौत होने के बाद कुल मृतक संख्या बढ़कर 2,49,992 हो गई। दो महीने तक लगातार वृद्धि के बाद, उपचाराधीन मामले कम होकर 37,15,221 हो गए, जो संक्रमण के कुल मामलों का 16.16 प्रतिशत है, जबकि संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की दर 82.75 प्रतिशत है। आंकड़ों के अनुसार, अब तक 1,90,27,304 लोग संक्रमित होने के बाद ठीक हो चुके हैं, जबकि मृत्युदर 1.09 प्रतिशत है।