चंबल में ‘मुझे जीने दो’ की शूटिंग कर रहे थे वहीदा रहमान और सुनील दत्त, सेट के पास पहुंच गए थे डाकू; यूं बचाई थी अपनी जान

वहीदा रहमान ने बताया था कि एक बार उनकी फिल्म के सेट के पास डाकू पहुंच गए थे। हालांकि वे किसी तरह जान बचाकर वहां से निकल गए।

waheeda rehman, sunil dutt बॉलीवुड एक्टर सुनील दत्त और एक्ट्रेस वहीदा रहमान (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस वहीदा रहमान और एक्टर सुनील दत्त एक साथ कई फिल्मों में नजर आए हैं। उनकी फिल्मों में ‘रेशमा और शेरा’, ‘मुझे जीने दो’, ‘एक फूल चार कांटे’, ‘दीदी’ और ‘मेरी भाभी’ शामिल है। ‘मुझे जीने दो’ की शूटिंग सुनील दत्त और वहीदा रहमान ने चंबल में की थी। कलाकारों के साथ-साथ बाकी टीम भी वहां टेंट डालकर रह रही थी। लेकिन शूटिंग के बीच ही डाकू सेट के पास पहुंच गए थे। हालांकि वे किसी तरह से जान बचाकर वहां से निकल आए।

‘मुझे जीने दो’ से जुड़े इस किस्से का खुलासा खुद सुनील दत्त और वहीदा रहमान ने ‘जीना इसी का नाम है’ में किया था। वहीदा रहमान ने इस सिलसिले में बताया, “जहां हम शूटिंग कर रहे थे वह डाकुओं का एरिया था। एक दिन मैं, नरगिस जी और निरूपा रॉय खाट पर बैठकर गप्पे मार रहे थे। इसी बीच दत्त साहब वहां आए और नरगिस जी पर चिल्लाते हुए बोले कि मिसेज दत्त आप क्या कर रही हो यहां।”

वहीदा रहमान ने इस बारे में आगे कहा, “दत्त साहब ने हमें भी कहा कि वहीदा जी, निरुपा जी उठिए और जीप में बैठिए। नरगिस जी ने पूछा कि हुआ क्या है? लेकिन इन्होंने उन्हें डांट दिया और कहा कि आप सवाल बहुत करती हैं। थोड़ी देर में वहां बीएसएफ के जवान पहुंच गए और उन्होंने हमसे कहा कि आप लोग जीप में बैठिए। एक जीप हमारे पीछे थी, एक आगे, चारों ओर गार्ड्स मौजूद थे।”

वहीदा रहमान ने इस बारे में आगे कहा, “हमसे कहा गया कि चारों महिलाएं टेंट में रहेंगी, ज्यादा तेज नहीं बोलोगे। फिर जब दत्त साहब वापस आए तो उन्होंने बताया कि टीलों पर मौजूद गार्ड्स ने देखा था कि वहां से सात-आठ डाकू हथियारों के साथ गुजर रहे थे और वह सेट के पास ही थे।”

बता दें कि वहीदा रहमान ने ‘मुझे जीने दो’ की शूटिंग के दौरान सुनील दत्त को कई थप्पड़ मारे थे। दरअसल, एक शॉट के वक्त सुनील दत्त की आंखें बंद हो गई थीं, जिससे वह शॉट उन्हें पसंद नहीं आया। ऐसे में सुनील दत्त ने वह सीन बार-बार शूट करने के लिए कहा था। ‘मुझे जीने दो’ फिल्म को सुनील दत्त ने ही प्रोड्यूस किया था और इसकी शूटिंग के दौरान सुनील दत्त का रवैया इस प्रकार का हो गया था कि परेशान होकर वहीदा रहमान ने उनकी शिकायत नरगिस से कर दी थी।