चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा किया यह सच मानने का दम मोदी सरकार में है या नहीं? बीजेपी सांसद का सवाल

भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के अधिकारियों के बीच 23 दौर की बैठक हो चुकी है। इतना ही दोनों देशों के मिलिट्री कमांडर के बीच भी 13 राउंड की बातचीत हो चुकी है।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

चीन के साथ जारी सीमा विवाद और दूसरे अन्य मुद्दों पर अपनी ही सरकार को अक्सर घेरने वाले भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व वाली सरकार पर निशाना साधा है। भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सवाल पूछा है कि चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा किया, यह सच मानने का दम मोदी सरकार में है या नहीं?

गुरुवार को भाजपा से राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि चीन पहले ही हम पर आक्रमण कर चुका है, वह हमारे कुछ हजार वर्ग किलोमीटर पर कब्जा कर  टाउनशिप, सड़कें और निगरानी चौकियां बना चुका है। और हम जानते ही नहीं है। कोई आया नहीं… क्या मोदी सरकार में इस सच्चाई को स्वीकार करने का दम नहीं है? या देश को 1962 की तरह फिर से चीन से अपमान सहना पड़ेगा?

भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने प्रधानमंत्री मोदी के “कोई आया नहीं” वाले बयान का जिक्र कर उनपर निशाना साधा। गौरतलब है कि पिछले साल गलवान घाटी में भारत और चीन सैनिकों के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने सर्वदलीय बैठक की थी। सर्वदलीय बैठक के बाद पीएम मोदी ने कहा था कि न तो कोई हमारी सीमा में घुसा है और न ही हमारी पोस्ट किसी दूसरे के कब्जे में हैं।

हालांकि इससे पहले भी भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कृषि कानून वापस लिए जाने के बाद चीन के द्वारा जमीन कब्ज़ा किए जाने वाली बात कबूलने और उसे वापस लेने की मांग की थी। भाजपा सांसद ने उस दौरान ट्वीट कर लिखा कि क्या मोदी अब यह भी कबूलेंगे कि चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया है और क्या मोदी एवं उनकी सरकार चीन के कब्जे से एक-एक इंच वापस लेने का प्रयास करेगी। 

बता दें कि भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को लेकर दोनों देशों के अधिकारियों के बीच 23 दौर की बैठक हो चुकी है। इतना ही दोनों देशों के मिलिट्री कमांडर के बीच भी 13 राउंड की बातचीत हो चुकी है। इतने दौरान की बैठक होने के बावजूद अभी तक हुई बातचीत बेनतीजा रही और सीमा विवाद का कोई हल नहीं निकल पाया।