चुनाव के बाद यूपी के हर गांव में रोज मौतें हो रहीं- योगी सरकार से बोले राकेश टिकैत; की ऑक्सीजन बैंक बनाने की मांग

पंचायत चुनाव के बाद उत्तर प्रदेश में कोरोना के मामलों में तेज़ी आई है। इसी बात पर राकेश टिकैत ने योगी आदित्यनाथ सरकार से कहा है कि हर गांव में लोग बुखार से पीड़ित हैं…

rakesh tikait, up panchayat elections, yogi adityanath

भारत में कोरोनावायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले 10 राज्यों से आ रहे हैं जिनमें उत्तर प्रदेश भी शामिल है। लगातार कई दिनों से राज्य में 20,000 से अधिक कोविड के नए मामले दर्ज़ हो रहे हैं। राज्य में कोविड कर्फ्यू लगाया गया है जो फिलहाल 10 मई तक जारी रहेगा। अन्य राज्यों की तरह ही यूपी में ऑक्सीजन, हॉस्पिटल बेड्स और जरूरी दवाइयों की भारी किल्लत की खबरें सामने आ रही हैं। इस स्थिति पर भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता और किसान नेता राकेश टिकैत ने योगी आदित्यनाथ सरकार से कहा है कि राज्य में तहसील स्तर पर ऑक्सीजन बैंक बनाए जाएं।

राकेश टिकैत ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक ट्वीट किया है जिसमें उन्होंने सीएम योगी आदित्यनाथ को टैग करते हुए कहा है कि राज्य के हर गांव में लोग रोज कोरोना से मर रहे हैं। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘योगी जी उत्तर प्रदेश में चुनाव के बाद हर घर में बुखार से पीड़ित लोग हैं। गांव में कोई टेस्टिंग, प्राथमिक उपचार, ऑक्सीजन नहीं मिल रही है। हर गांव में रोज मौतें हो रही है। आग्रह है कि तहसील स्तर पर ऑक्सीजन बैंक बने।’

आपको बता दें कि जब देश में कोरोना की त्रासदी फैली हुई है ऐसे में भी उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव हुए हैं। इस चुनाव के लगे कई कर्मचारियों की कोविड से मौत की भी खबरें सामने आईं हैं। कोविड के बीच संपन्न हुए इस चुनाव की आलोचना भी खूब हुई।

बहरहाल, पंचायत चुनाव के संदर्भ में किए गए राकेश टिकैत के इस ट्वीट पर यूजर्स भी खूब प्रतिक्रिया दे रहे हैं। दलजीत सिंह सिद्धू नाम से एक यूजर ने लिखा, ‘उत्तर प्रदेश के गांवों में कोरोना टेस्टिंग की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए। गांवों में संक्रमण रोकना बड़ी चुनौती है।’

अजीत निर्वाल नाम से एक यूजर ने राकेश टिकैत को जवाब दिया, ‘हिटलर की बात याद है? लोगों को इतना तड़पा दो कि वो जिंदा रहने में ही अपना विकास समझें।’

प्रमोद कुमार वर्मा लिखते हैं, ‘योगी जी कहते हैं कि यूपी के हालात बहुत अच्छे हैं। कोविड कंट्रोल में है, ऑक्सीजन की कमी नहीं है, बेड पर्याप्त है तो उनसे कुछ उम्मीद नहीं कर सकते।’