छह वर्षीय बच्ची के बलात्कार और हत्या का आरोपी तेलंगाना में रेल पटरी पर मृत पाया गया

अधिकारी ने बताया कि पुलिस को संदेह है कि आरोपी 30 वर्षीय पी राजू ने चलती ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या की। राजू ने नौ सितंबर की शाम बच्ची का कथित तौर पर बलात्कार करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी।

bihar, munger, crime news तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः pixabay)

तेलंगाना में छह वर्षीय बच्ची के बलात्कार और हत्या के मामले में वांछित एक व्यक्ति जनगांव जिले में एक रेल पटरी पर बृहस्पतिवार को मृत पाया गया। तेलंगाना पुलिस महानिदेशक एम महेंद्र रेड्डी ने ट्वीट करके यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि शव पर पहचान चिह्नों के सत्यापन के बाद आरोपी की पहचान की गई।

रेड्डी ने कहा, ‘‘सिंगारेनी कॉलोनी में बाल यौन उत्पीड़न एवं हत्या का आरोपी घनपुर पुलिस थाना क्षेत्र में रेल पटरी पर मृत पाया गया। मृतक के शरीर पर पहचान चिह्नों के सत्यापन के बाद यह घोषित किया गया।’’
जनगांव के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि घनपुर थाने में पटरी पर एक शव पाया गया, जिसके सिर पर चोट के निशान थे। कुछ स्थानीय लोगों ने सुबह करीब पौने नौ बजे पटरी पर यह शव देखा, जिसके बाद पुलिस वहां पहुंची।

अधिकारी ने बताया कि पुलिस को संदेह है कि आरोपी 30 वर्षीय पी राजू ने चलती ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या की। राजू ने नौ सितंबर की शाम यहां सैदाबाद में बच्ची का कथित तौर पर बलात्कार करने के बाद उसकी हत्या कर दी थी। इस घटना के बाद स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन किए थे। उन्होंने दोषी को जल्द से जल्द गिरफ्तार किए जाने की मांग की थी।

वहीं, महाराष्ट्र के ठाणे जिले में उल्हासनगर थाने के बाहर एक महिला और उसके परिवार ने बलात्कार के मामले में पुलिस द्वारा उचित कार्रवाई ना करने का आरोप लगाते हुए आत्महत्या करने की कोशिश की। हालांकि सुरक्षा कर्मियों ने उन्हें समय रहते रोक लिया।

घटना बुधवार की है, जिसका कथित वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। इस वीडियो में, परिवार के तीन सदस्य चिल्लाते और खुद पर मिट्टी का तेल डालते नजर आ रहे हैं। वे खुद को आग लगाने ही वाले थे, तभी कुछ महिला कर्मी सहित कुछ पुलिस कर्मियों ने उनके हाथ से ‘लाइटर’ छीन लिया।

गौरतलब है कि माता-पिता ने उल्हासनगर थाने में इस साल जुलाई में दो लोगों के खिलाफ उनकी बेटी से बलात्कार करने के आरोप में मामला दर्ज कराया था। वीडियो में, परिवार के सदस्य दावा करते दिख रहे हैं कि बार-बार आग्रह के बाद भी पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। इसके बाद, कुछ पुलिस कर्मी परिवार को थाने के अंदर ले जाते दिख रहे हैं।

स्थानीय निरीक्षक और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से सम्पर्क करने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने मामले को संवेदनशील बताते हुए कुछ भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।