जंतर-मंतर भड़काऊ नारेबाजीः सैकड़ों समर्थकों के साथ थाने पहुंचकर पिंकी चौधरी ने किया सरेंडर, जेएनयू में मारपीट की भी ली थी जिम्मेदारी

जंतर-मंतर पर भड़काऊ नारेबाजी करने के आरोपी पिंकी चौधरी ने मंदिर मार्ग थाने में सरेंडर कर दिया है। थाने के बाहर उसका स्वागत करने के लिए सैकड़ों लोग मौजूद थे।

भीड़ के साथ थाने पहुंचा पिंकी चौधरी। फोटो- @Scribe_Prashant ट्विटर हैंडल

दिल्ली के जंतर-मंतर पर खास समुदाय के खिलाफ भड़काऊ नारेबाजी के आरोपी पिंकी चौधरी ने मंगलवार को मंदिर मार्ग थाने में सरेंडर कर दिया है। वह लंबे समय से फरार चल रहा था। हालांकि वह थाने में सरेंडर करने भी पूरे लाव-लश्कर के साथ पहुंचा। थाने के बाहर उसके सैकड़ों समर्थक मौजूद थे। लोगों ने उसे फूलमाला पहनाई। बता दें कि सोमवार को पिंकी चौधरी यानी भूपेंद्र तोमर ने वीडियो जारी करके ऐलान किया था कि वह मंगलवार को सरेंडर करेंगे।

पिंकी चौधरी पर जंतर-मंतर पर आयोजित रैली में सांप्रदायिक नारे लगाने और खास समुदाय के खिलाफ लोगों को उकसाने का आरोप है। वह हिंदू रक्षा दल का अध्यक्ष है। इस मामले में पुलिस पहले ही आठ आरोपियों को गिरफ्तार कर चुकी है। पिंकी चौधरी ने कई बार वीडियो जारी करके कहा है कि उनपर लगाए गए आरोप बेबुनियाद हैं। उन्होंने सोमवार को वीडियो जारी करके ही सरेंडर करने की बात कही थी।

वीडियो में पिंकी ने कहा था, मैं अपनी बात पर आज भी अडिग हूं कि मेरे संगठन के किसी कार्यकर्ता ने कुछ भी गलत नहीं किया। मैं कानून का सम्मान करता हूं इसलिए दोपहर 12 बजे कनॉट प्लेस थाने में सरेंडर कर दूंगा। शुक्रवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने पिंकी चौधरी को गिरफ्तारी से अंतरिम राहत देने से इनकार कर दिया था।

इस मामले में भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय को भी गिरफ्तार किया गया था। हालांकि बाद में उन्हें जमानत मिल गई। जांच के बाद पता चला है कि पिंकी चौधरी पर गाजियाबाद और नोएडा में कुल आठ मामले दर्ज हैं। वह गाजियाबाद का ही रहने वाला है।

केजरीवाल पर भी हमले का आरोपी
पिंकी चौधरी पहली बार विवादों में नहीं है। वह अकसर कुछ न कुछ ऐसा करता है जिसके बाद चर्चा में आ जाता है। एक बार पिंकी चौधरी ने दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पर हमले की कोशिश की थी। हालांकि इस मामले में कोई खास कार्रवाई नहीं हुई थी। वहीं जेएनयू में छात्रों की पिटाई के बाद भी पिंकी चौधरी ने वीडियो जारी करके इसकी जिम्मेदारी ली थी।