जब दूसरे धर्म में शादी के फैसले पर रिश्तेदारों ने उठाए सवाल! परेशान वहीदा रहमान पहुंच गईं थीं सलीम ख़ान के पास

कमलजीत से शादी को लेकर घरवालों की बातों से वहीदा काफ़ी परेशान थीं। वहीदा रहमान का साथ तब सलीम खान ने दिया था। सलीम खान वहीदा रहमान के पड़ोसी थे और उनके बहुत अच्छे दोस्त भी।

waheeda rehman, salim khan, waheeda rehman husband वहीदा रहमान और सलीम खान बहुत अच्छे दोस्त हैं (Photos-Indian Express Archive)

हिंदी फ़िल्म जगत की बेहतरीन अभिनेत्री वहीदा रहमान का नाम गुरु दत्त से जुड़ा। लेकिन वहीदा रहमान बाद में उनसे अलग हो गईं थीं। वहीदा रहमान की जिंदगी में तब अभिनेता कमलजीत आए। वहीदा को उनसे प्यार हुआ और जल्द ही कमलजीत ने उनके सामने शादी का प्रस्ताव रख दिया। वहीदा रहमान तो शादी के लिए मान गईं लेकिन उनके घरवालों और रिश्तेदारों को इससे दिक्कत होने लगी। दरअसल कमलजीत के हिंदू होने से घरवालों को आपत्ति थी।

वहीदा रहमान से कहा गया कि वो कमलजीत से शादी न करें। घरवालों की बातों से वहीदा काफ़ी परेशान थीं। वहीदा रहमान का साथ तब सलीम खान ने दिया था। सलीम खान ने खुद इस किस्से का जिक्र वाइल्ड फिल्म्स इंडिया को दिए एक इंटरव्यू में किया था। सलीम खान वहीदा रहमान के पड़ोसी थे और उनके बहुत अच्छे दोस्त भी।

उन्होंने बताया था, ‘जब उन्होंने अलग धर्म में शादी करने की सोची, एक ऐसे व्यक्ति के साथ को फिल्मों में काम करता है। बहुत से लोगों ने आकर उन्हें कहना शुरू किया कि वो शादी न करें। उनके दोस्तों, रिश्तेदारों सब लोग ने मना किया कि शादी ने करें। तब वो मेरे पास आईं… उन्हें मुझ पर, मेरे सलाह पर विश्वास था। उन्होंने मुझसे पूछा कि, बताओ, अब मैं क्या करूं? लोग ऐसी-ऐसी बातें कर रहे हैं।’

सलीम खान ने आगे बताया था, ‘मैंने पूछा कि तुम क्या चाहती हो। वहीदा ने कहा कि- हां मैं शादी करना चाहता हूं। सलीम साहब, सबको लगता है कि शादी के बाद सब कुछ खत्म हो जाएगा। एक बार मैंने शादी कर ली तो दोबारा इससे निकल नहीं पाऊंगी। लेकिन मेरे लिए ऐसा नहीं है। मैं शादी करना चाहती हूं लेकिन अगर शादी नहीं चली तो मैं इसे तोड़ दूंगी, कमलजीत भी ऐसा ही सोचते हैं।’

सलीम खान ने उन्हें सलाह दी थी कि वो अपने मन की सुनें और शादी कर लें। वहीदा और कमलजीत की शादी साल 1974 में हुई थी। शादी के बाद भी वहीदा रहमान ने काम करना जारी रखा था। साल 1991 की फ़िल्म, ‘लम्हे’ के बाद उन्होंने काम से ब्रेक लिया था और घर परिवार को संभालने में जुट गईं थीं। उन्हीं दिनों कमलजीत की तबियत ख़राब होने लगी थी।

वहीदा रहमान की शादीशुदा जिंदगी की खुशियां ज्यादा समय तक नहीं रहीं। साल 2000 में कमलजीत का बीमारी के कारण निधन हो गया। वहीदा रहमान को इससे गहरी चोट पहुंची। लेकिन कुछ समय बाद उन्होंने खुद को संभालते हुए फिर से बॉलीवुड की फिल्मों में काम करना शुरू किया था।