जब पहली मुलाकात में धर्मेंद्र पर चीख पड़े थे दिलीप कुमार, घबराकर घर से बाहर भागे थे ‘ही-मैन’, जानिए क्यों

धर्मेंद्र की पहली मुलाकात दिलीप कुमार से उनके घर में हुई थी। लेकिन यहां दोनों की मुलाकात बिल्कुल भी ठीक नहीं हुई थी और दिलीप साहब धर्मेंद्र पर चीख पड़े थे। जानिए क्या थी वजह।

Dilip Kumar Dharmendra धर्मेंद्र के साथ दिलीप कुमार (Photo- Indian Express)

बॉलीवुड में कई सुपरस्टार हुए हैं और कई एक्टर्स की आपस में दोस्ती भी हुई है। लेकिन धर्मेंद्र और दिलीप कुमार की दोस्ती सबसे अलग थी। धर्मेंद्र कई मौकों पर दिलीप कुमार को अपना बड़ा भाई बता चुके थे। वहीं, दिलीप कुमार भी बदले में धर्मेंद्र को बहुत सम्मान देते थे। दोनों की दोस्ती की शुरुआत बिल्कुल भी ऐसी नहीं हुई थी। पहली मुलाकात में तो धर्मेंद्र पर दिलीप कुमार चीख तक पड़े थे।

घर में घुस गए थे धर्मेंद्र: इसका किस्सा धर्मेंद्र ने खुद एक इंटरव्यू में सुनाया था। धर्मेंद्र बनना तो एक्टर चाहते थे, लेकिन उनका परिवार बिल्कुल नहीं चाहता था कि वह मुंबई जाएं और फिल्मों में काम करें। एक बार वो मां से जिद करके मुंबई आ गए, लेकिन उन्हें काम नहीं मिला। वह वापस अपने घर लौट ही रहे थे तो उन्होंने सोचा क्यों न एक बार दिलीप कुमार से भी मुलाकात कर ली जाए। फिर क्या था धर्मेंद्र उनके बांद्रा स्थित घर की तरफ बढ़ गए।

घर के बाहर पहुंचने के बाद धर्मेंद्र अंदर की तरफ बढ़े, लेकिन उन्हें किसी ने रोका नहीं। क्योंकि धर्मेंद्र की पर्सनालिटी शुरू से ही एक्टर जैसी थी तो किसी ने सोचा कि दिलीप साहब से कोई उनका परिचित ही मिलने आया है। धर्मेंद्र बढ़ते-बढ़ते दिलीप साहब के बेडरूम तक पहुंच गए और दरवाजा खोला। दिलीप साहब गहरी नींद में थे और दरवाजा खुलने से उनकी नींद खुली तो वह तेजी से चीखे कि कौन है?

धर्मेंद्र को गिफ्ट की जैकेट: दिलीप साहब को देखने के बाद धर्मेंद्र तेजी से भागे और घर से बाहर निकल गए। वह वापस अपने घर लौट गए। कुछ समय बाद उन्हें फिल्मफेयर के कॉन्टेस्ट में हिस्सा लेने के लिए मुंबई बुलाया गया। यहां हिस्सा लेने वाले कैंडिडेट्स का मेकअप फरीदा खान कर रही थीं। जब धर्मेंद्र को ये पता चला कि फरीदा जी दिलीप साहब की बहन हैं तो उन्होंने उनसे गुज़ारिश की कि वह एक बार उन्हें दिलीप कुमार से मिलवा दें। फरीदा को उनकी ये बाद पसंद आई और उन्होंने दिलीप कुमार से बात की।

दिलीप कुमार और धर्मेंद्र की मुलाकात पक्की हो गई। अगले ही दिन दोनों एक बार फिर मिले, लेकिन इस बार वह धर्मेंद्र पर नाराज़ नहीं हुए। उन्होंने धर्मेंद्र से बातें कीं और अपनी विदेशी जैकेट तक गिफ्ट कर दी। जैकेट से कई ज्यादा कीमती धर्मेंद्र के लिए वो मुलाकात थी जो उन्हें हमेशा याद रही।